पैंगोंग झील पर चीन चल रहा नई चाल, अब शुरू कर दिया ऐसा निर्माण

पैंगोंग झील पर चीन की गतिविधियां थम नहीं रही हैं। खबर है कि अब पड़ोसी ने झील के ऊपर एक और पुल का निर्माण शुरू कर दिया है. खास बात यह है कि हाल ही में चीन ने भारत के दावे वाले इस इलाके में एक पुल बनाया था। कहा जा रहा है कि दूसरा पुल भारी बख्तरबंद वाहनों की आवाजाही में सक्षम होगा। फिलहाल, कथित निर्माण पर भारतीय सेना की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Pangong Lake
दूसरा पुल संकरे पुल के समान बनाया जा रहा है जो अप्रैल में बनकर तैयार हुआ था। उपग्रह चित्रों का आकलन करने वाले विशेषज्ञों का कहना है कि पहले पुल का इस्तेमाल क्रेन जैसे उपकरणों की आवाजाही के लिए किया गया था, जो दूसरे पुल को तैयार करने के लिए आवश्यक है।

जनवरी में जब पता चला कि पैंगोंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारे को जोड़ने वाले पुल का निर्माण किया जा रहा है, तो विदेश मंत्रालय ने इस पर प्रतिक्रिया दी। सरकार ने कहा था कि जिस साइट पर यह ढांचा स्थित है वह 60 साल से अधिक समय से चीन के अवैध कब्जे में है। प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा था कि भारत ने इस तरह के अवैध कब्जे को कभी स्वीकार नहीं किया।

आंकड़े बताते हैं कि दूसरा पुल 10 मीटर चौड़ा और 450 मीटर लंबा होगा. विश्लेषक डेमियन साइमन बताते हैं, “पुल के दोनों सिरों को जोड़ने वाली समानांतर सड़क संपर्क पर काम शुरू हो गया है।”

खास बात यह है कि ये दोनों पुल 134 किमी लंबी झील के सबसे संकरे हिस्से पर बने हैं। पहला पुल उत्तरी तट पर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की स्थिति के दक्षिण में बनाया गया है। दोनों पुल उत्तरी तट से रुतोग में पीएलए के प्रमुख आधार तक की दूरी को कम कर देंगे। वास्तविक नियंत्रण रेखा के लद्दाख सेक्टर में भारत और चीनी सैनिकों के बीच जारी टकराव को ढाई साल से अधिक समय बीत चुका है।

सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल विनोद भाटिया का कहना है कि निर्माण कार्य इस बात का संकेत है कि चीन क्षेत्र में रहना चाहता है। उन्होंने कहा, “यह झील पर सैन्य गतिविधियों को तेज करने में मदद करेगा।”