बच्ची के साथ क्रूरता- दुष्कर्म के बाद अंगों को निकाला, इलाके में दहशत

कानपुर जिले में दिवाली की रात 6 साल की मासूम बच्ची की बलि चढ़ा दी गई।

उत्तर प्रदेश॥ कानपुर जिले में दिवाली की रात 6 साल की मासूम बच्ची की बलि चढ़ा दी गई। उसके दोनों फेफड़े निकाल लिए गए। सुबह के वक्त जब गांव के लोगों ने बच्ची का शव खेत में पड़ा देखा, तो घटना की खबर हो सकी। बच्ची दिवाली की रात को अचानक लापता हो गई थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण किया।

rape

बच्ची के पैर लाल रंग से रंगे हुए थे। इसके अलावा मौके से कई ऐसे सामान बरामद किए गये, जो तंत्र विद्या की तरफ इशारा कर रहे हैं। रूह कंपा देने वाली ये घटना कानपुर के घाटमपुर के भदरस गांव की है। बताया गया है कि दिवाली की रात करन कुरील की बेटी श्रेया उर्फ भूरी (6) घर के बाहर खेल रही थी। घर के कुछ लोग खेत की तरफ गए थे।

घर की औरतें दिवाली की पूजा के लिए तैयारी कर रहीं थीं। इस दौरान दीए रखने के लिए बच्चों को आवाज लगाई गई। दो बेटियां तो आ गईं, मगर 6 वर्षीय श्रेया नहीं आई। इसके बाद बच्ची की परिवार के लोगों ने तलाश शुरू कर दी। उसको पूरे गांव में खोजा गया, मगर उसका कहीं कोई पता नहीं लगा।

बेटी के गुम हो जाने से परेशान परिवार के लोग थाने में पहुंच गये, मगर वहां पुलिस ने कहा कि सुबह तक इंतजार करो। इसके बाद परिवार के लोग अपने स्तर से बच्ची की तलाश में जुट गए। वहीं सुबह बच्ची का शव गांव के बाहर खेत में पड़ा मिला। उसकी बड़ी ही बेरहमी के साथ हत्या की गई। बच्ची के पैर लाल रंग से रंगे हुए थे। उसके शरीर पर धारदार हथियार से काटे जाने के निशान थे।

मासूम के जिस्म से कलेजा तक निकाल लिया गया था। इस घटना के उपरांत ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया। जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। इस मामले में अभी कोई भी पुलिस अफसर कुछ स्पष्ट बोलने के लिए तैयार नहीं हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *