प्लेन में यात्रा करते समय कभी भूलकर भी मत बोलना ये 4 शब्द, वरना जे’ल और लाखों के जुर्माने के साथ हमेशा के लिए होगे बैन

हवाई जहाज से यात्रा करने का अपना ही मजा होता है। इसमें उच्च श्रेणी की फिलिंग है। फिर विमान से अधिक दूरी भी कम समय में तय की जाती है। हालांकि, हवाई जहाज में यात्रा करने के लिए ट्रेन या बस से ज्यादा नियमों और विनियमों का पालन करना पड़ता है। इन नियमों में से एक ऐसा नियम है जिसमें फ्लाइट अटेंडेंट (फ्लाइट सेफ्टी रूल्स) को भूलकर भी आपको ‘विशेष’ चार शब्द नहीं कहना चाहिए।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको इन 4 आर्टिकल्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में आपको जरूर पता होना चाहिए। आइए जानते हैं किन शब्दों के कारण आपको इतना कष्ट उठाना पड़ सकता है। दरअसल, फ्लाइट सेफ्टी रूल्स के मुताबिक विमान में कुछ गतिविधियों और शब्दों को बहुत गंभीरता से लिया जाता है। ऐसे में अगर आप मजाक में फ्लाइट स्टाफ से वो चार शब्द भी कह दें तो आप मुश्किल में पड़ सकते हैं। इन शब्दों को बोलने पर आप पर लाखों रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है। इतना ही नहीं, आप 3 साल की जेल भी काट सकते हैं।

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि भविष्य में आपके विमान में बैठने पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है। तो आइए जानते हैं कौन से हैं वो चार शब्द जो फ्लाइट में भूलकर भी नहीं बोलना चाहिए। आप विमान में यात्रा करते समय एक फ्लाइट अटेंडेंट से ड्रिंक के लिए अनुरोध कर सकते हैं, लेकिन आप इसे पहले से पीने के बाद विमान में नहीं चढ़ सकते। एयरलाइंस इसे लेकर इतनी गंभीर हैं कि अगर आप मजाक में ‘मैं नशे में हूं’ भी कह दें तो आप बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं। वास्तव में, नशे में धुत यात्री अन्य यात्रियों की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं।

शराब के नशे में यात्रियों को विमान में चढ़ने से रोकने के लिए सभी एयरलाइनों की ओर से केबिन क्रू और फ्लाइट अटेंडेंट को विशेष रसोइया अधिकार दिए गए हैं। इसके तहत वे नशे में धुत यात्रियों को विमान में चढ़ने से मना कर सकते हैं। अगर उन्हें विमान के उड़ान भरने के बाद पता चलता है कि एक यात्री नशे में है, तो उन्हें नजदीकी हवाई अड्डे पर उतरने और उन्हें विमान से उतारने का अधिकार है।

अगर कोई शराबी यात्री बहस करता है या हंगामा करता है तो उसके खिलाफ भी मामला दर्ज किया जा सकता है। अगर वह इस मामले में दोषी पाए जाते हैं तो उन पर 8,000 पाउंड का जुर्माना लगाया जा सकता है। वहीं, उसे 3 साल की जेल भी हो सकती है। इतना ही नहीं अगर एयरलाइन उस यात्री को दंगा करने वाले यात्रियों की सूची में डाल देती है, तो उसे जीवन भर के लिए विमान में बैठने के लिए ब्लैकलिस्ट कर दिया जाता है। यानी उनके हवाई जहाज से यात्रा करने पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसलिए अब जब भी हवाई जहाज़ में यात्रा करें तो नशे में न जायें और मजाक में भी ‘मैं नशे में हूँ’ ये शब्द न कहें।