भारत और ईरान के सदियों पुराने संबंधों पर जोर, भविष्य में होगा ये फायदा

नई दिल्ली, 06 सितम्बर । मॉस्को से सीधे शनिवार रात तेहरान पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातमी के साथ द्विपक्षीय बैठक की। दोनों मंत्रियों के बीच बैठक सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में हुई। दोनों नेताओं ने भारत और ईरान के बीच सदियों पुराने सांस्कृतिक, भाषाई और सभ्यतागत संबंधों पर जोर दिया। दोनों रक्षा मंत्रियों ने द्विपक्षीय सहयोग को आगे बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की और अफगानिस्तान में शांति और स्थिरता सहित क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया।

rajnath singh

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में भाग लेने के बाद उनकी बहुचर्चित बैठक चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंगही के साथ हुई, जिसमें रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने लद्दाख में एलएसी पर चल रहे तनाव को लेकर खरी-खरी सुनाई। मॉस्को से भारत के लिए रवाना होने से पहले उन्होंने शनिवार को एससीओ सदस्य होने के नाते बैठक में शामिल होने मॉस्को आये तजाकिस्तान के रक्षा मंत्री कर्नल जनरल शेरली मिर्ज़ो, कजाकिस्तान के रक्षा मंत्री लेफ्टिनेंट जनरल नुरलान यर्मेकबायेव और उज्बेकिस्तान के रक्षा मंत्री मेजर जनरल कुर्बानोव बखोदिर निज़ामोविच से अलग-अलग मुलाकात की।

इस बीच उन्हें एक सन्देश भेजकर ईरान के रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातमी ने द्विपक्षीय बैठक करने का अनुरोध किया। ईरान एससीओ समूह का पर्यवेक्षक देश है। ईरान की चाबहार बंदरगाह परियोजना भारत की देन है, जो अफगानिस्तान और मध्य एशियाई देशों को सीधे जोड़ती है।

20 मिनट की द्विपक्षीय बैठक

अपने विस्तृत पड़ोस के हिस्से के रूप में वहां चल रही कनेक्टिविटी परियोजनाओं के मद्देनजर ईरान की यात्रा को महत्वपूर्ण मानते हुए राजनाथ सिंह ने मॉस्को से नई दिल्ली आने की बजाय वहीं से सीधे तेहरान के लिए उड़ान भर ली। शनिवार रात तेहरान पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ब्रिगेडियर हातमी से मुलाकात की।

सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में दोनों नेताओं ने एक घंटे 20 मिनट तक द्विपक्षीय बैठक की, जिसमें भारत और ईरान के बीच सदियों पुराने सांस्कृतिक, भाषाई और सभ्यतागत संबंधों पर जोर दिया गया। दोनों रक्षा मंत्रियों ने द्विपक्षीय सहयोग को आगे बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की और अफगानिस्तान में शांति और स्थिरता सहित क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बैठक के बाद ट्वीट करके बताया कि तेहरान में ईरानी रक्षा मंत्री ब्रिगेडियर जनरल अमीर हातमी के साथ एक बहुत फलदायी बैठक हुई। हमने अफगानिस्तान सहित क्षेत्रीय सुरक्षा मुद्दों और द्विपक्षीय सहयोग के मुद्दों पर चर्चा की। ​अब भारत की नजर इस बंदरगाह के जरिए रूस, तजाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान, कजाकिस्तान और उजेबकिस्तान से अपने व्यापार को बढ़ाना है।

ईरान और पाकिस्तान की सीमाएं आपस में जुड़ी हुई हैं। इस स्थिति में भारत ईरान को साधकर पाकिस्तान को बड़ा झटका भी दे सकता है। चीन ने कुछ दिनों पहले ही ईरान के साथ अरबों डॉलर का सौदा किया था। इसमें न केवल रक्षा​​ बल्कि व्यापार क्षेत्र के भी कई बड़े समझौते हुए थे। ऐसे में अगर भारत चीन के खिलाफ ईरान को मना लेता है तो यह बड़ी कूटनीतिक जीत मानी जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *