किसानों का ट्रैक्टर-ट्रॉली समेत कलेक्ट्रेट में डेरा, दिल्ली कूच का ऐलान

कृषि कानूनों के विरूद्ध तो किसानों का आंदोलन चल ही रहा है, अब गन्ना भुगतान को लेकर भी किसानों ने मोर्चा खोल दिया है।

मेरठ॥ कृषि कानूनों के विरूद्ध तो किसानों का आंदोलन चल ही रहा है, अब गन्ना भुगतान को लेकर भी किसानों ने मोर्चा खोल दिया है। सोमवार को भारतीय किसान संगठन के बैनर तले किसानों ने ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। गन्ने का बकाया भुगतान जल्द न होने पर दिल्ली कूच का ऐलान कर दिया।

farmers protast

भारतीय किसान संगठन के जिलाध्यक्ष देवराज सिंह पुंडीर के नेतृत्व में सोमवार को 10 ट्रैक्टर-ट्रॉली में सवार होकर किसान कलेक्ट्रेट पहुंचे। उन्होंने आरोप लगाया कि चीनी मिलों को चलते हुए लगभग तीन महीने का समय हो गया है। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के बावजूद अब तक किसानों का बकाया भुगतान नहीं हुआ है। सरकार ने अब तक गन्ने का मूल्य भी घोषित नहीं किया है।

उन्होंने सवाल उठाया कि जब पराली जलाने पर किसानों पर तत्काल मुकदमा किया जाता है तो फिर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद किसानों का गन्ना भुगतान क्यों नहीं हो रहा? किसानों ने गन्ने का मूल्य 450 रुपए प्रति कुंतल घोषित किए जाने की मांग उठाई। किसानों के बकाया बिजली बिल पर आरसी ना जारी करने की भी मांग उठाई।

कृषि कानूनों को काला कानून बताते हुए किसानों ने इस कानून को फौरन वापस लिए जाने की मांग की। साथ ही चेतावनी दी कि यदि उनकी मांग पर गौर नहीं किया गया तो वह ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के साथ दिल्ली कूच करेंगे। किसानों ने राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *