लद्दाख में चीनी सेना की तैनाती पर आया विदेश मंत्रालय का बयान, कहा- उल्लंघन किया॰॰॰

विदेश मंत्रालय ने लद्दाख में सेना की तैनाती पर चीन के बयान को किया खारिज

नई दिल्ली॥ विदेश मंत्रालय ने पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में फौज की तैनाती के बारे में चीन के विदेश मंत्रालय के बयान को खारिज करते हुए कहा कि सरहद पर चीन की ओर से ही बीते साल फौजियों की भारी तैनाती की गई और यथास्थिति को बदलने की कोशिश की गई।

CHINA ARMY

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने गुरुवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि ये एक सर्वमान्य तथ्य है कि पिछले वर्ष चीन की ओर से सीमा पर बड़ी संख्या में सैनिकों की तैनाती की गई तथा यथास्थिति में बदलाव करने का प्रयास किया गया। चीन की इस कार्रवाई से सीमा क्षेत्र में शांति और सामान्य स्थिति में बिगड़ी।

आपको बता दें कि चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा था कि चीन ने अपनी क्षेत्रीय अखंडता को कायम रखने के लिए रक्षात्मक रूप से सैनिकों की तैनाती की थी। अरिंदम बागची ने कहा कि चीन ने वर्ष 1993 और 1996 में हुए समझौते का उल्लंघन किया, जिनमें यह प्रावधान था कि वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान किया जाएगा तथा सीमा क्षेत्र में फौजियों की संख्या न्यूनतम रखी जाएगी।

प्रवक्ता ने कहा कि दोनों देशों के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों के बीच विचार-विमर्श और संबंध में संबंधित प्रक्रिया (डब्ल्यूएमसीसी) के तहत अगली बैठक की कोई तिथि अभी निर्धारित नहीं है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *