Health care tips: अगर बार-बार सुन्न हो जाते हैं पैर, तो हो जाएं सतर्क, हो सकते हैं इन गंभीर बीमारियों के लक्षण

कई बार ऐसा होता है जब आप लगातार काफी देर तक बैठे रहते हैं तो आपके पैर सुन्न हो जाते हैं। पैर सुन्न होने पर ऐसा लगने लगता है जैसे कोई पैर में पिन या सुई...

कई बार ऐसा होता है जब आप लगातार काफी देर तक बैठे रहते हैं तो आपके पैर सुन्न हो जाते हैं। पैर सुन्न होने पर ऐसा लगने लगता है जैसे कोई पैर में पिन या सुई चुभो रहा हो। कई बार लोगों को पैर सुन्न होने पर उसके दर्द की भी शिकायत रहती है। पैर सुन्न होने की कई वजह हो सकती है लेकिन सबसे कॉमन वजह होती है एक ही स्थिति में बैठने से ब्लड फ्लो कम होना या फिर नसों पर अधिक दवाब पड़ना है।

leg numb

वहीं अगर किसी के पैर लंबे समय तक सुन्न रहते हैं तो इसे जरा भी नजरंदाज नहीं करना चाहिए। ये कई गंभीर बीमारियों का संकेत हो सकता है। पैर सुन्न होने पर सेंसेशन घुटने के नीचे या पैर के अलग-अलग हिस्सों में महसूस होती है। ऐसे में पैर सुन्न होने की वजह को जानना बेहद जरूरी हो जाता है ताकि आगे चलकर किसी भी तरह की गंभीर बीमारी का खतरा ना रहे।

पैर सुन्न होने की वजह

अगर किसी को लंबे समय पैरों सुन्नता और झुनझुनी होती है तो वह सेंट्रल नर्वस सिस्टम को प्रभावित करने वाली स्थिति यानी मल्टीपल स्केलेरोसिस (एमएस), डायबिटीज, धमनी रोग या फाइब्रोमायल्गिया की वजह से हो सकता है। इसके लिए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ताकि समय रहते इलाज शुरू किया जा सके।

पैर सुन्न होने के कॉमन कारण

पोश्चर

अगर कोई व्यक्ति लंबे समय तक गलत पोश्चर से बैठा रहता है तो उसकी लोअर बॉडी सुन्न हो सकती है। कई लोगों को इस सुन्नता की वजह से नींद भी नहीं आती। इसे मेडिकल की भाषा में पैरेस्थेसिया कहा जाता है।

– काफी देर तक पैरों को क्रास करके बैठे रहना।
– लंबे समय तक बैठना
– पैरों के बल बैठना
– तंग जूते, पैंट और मोजे पहनना
– चोट लगाना

डायबिटीज

डायबिटीज के मरीजों में एक तरह की नर्व डैमेज हो जाती है जिसे डायबिटीज न्यूरोपैथी कहते हैं। डायबिटीज न्यूरोपैथी पैरों में सुन्नता, झुनझुनी और दर्द की भी वजह बन सकती है।

लोअर बैक समस्या या साइटिका

पीठ के निचले हिस्से में जैसे कि रीढ़ की हड्डी के टूटने से नसें सिकुड़ जाती हैं। इससे भी पैर सुन्न होने का खतरा रहता है। वहीं साइटिका में साइटिक नस जो कूल्हे से लेकर पैर के पिछले हिस्से से होते हुए एड़ी तक जाती है। उसमे भी दर्द की वजह से पैर सुन्न हो जाते हैं।

टार्सल टनल सिंड्रोम

टार्सल टनल सिंड्रोम उस समय होता है जब पैर के पीछे से टखने के अंदर जाने वाली नस सिकुड़ जाती है। एक्सपर्ट्स बताते हैं कि टार्सल टनल, टखने के अंदर की तरफ एक संकरी जगह होती है और इसी से टखनों, एड़ी और पैर में सुन्नता, जलन, झुनझुनी महसूस होती है।

पैरिफेरल धमनी रोग

पैरिफेरल धमनी रोग (पीएडी) पैर, हाथ और पेट में ब्लड आर्टरीज के सिकुड़ने की वजह से भी पैर सुन्न होते हैं। इससे खून की मात्रा कम हो जाती है और ब्लड फ्लो भी कम हो जाता है जिससे पैर सुन्न हो जाते हैं।

पैर में सुन्नता का इलाज

अगर पैरों में सुन्नता कुछ समय के लिए होती है तो उसे कुछ घरेलू इलाज करके भी ठीक किया जा सकता है। जैसे, आराम करना, बर्फ लगाना, हीट देना, एक्सरसाइज करना, नमक के पानी में पैर भिगोकर रखना, मसाज करना आदि। वहीं अगर पैर बार-बार सुन्न होते हैं और लंबे समय तक सुन्न हो रहते है तो लापरवाही नहीं करनी चाहिए। डॉक्टर से संपर्क करके इसका इलाज शुरू कर देना चाहिए।