पाकिस्तान में आ गई बड़ी आफत, हजारों की संख्या में सड़कों पर उतरकर लोग कर रहें॰॰॰

भारत के पड़ोसी मुल्क पाक में शिया मसलक के विरूद्ध ईशनिन्दा के मुद्दे दिन पर दिन बढ़ रहे हैं।

लाहौर॥ भारत के पड़ोसी मुल्क पाक में शिया मसलक के विरूद्ध ईशनिन्दा के मुद्दे दिन पर दिन बढ़ रहे हैं। कराची में तहरीक-ए-लबाइक पाकिस्तान तथा अहल-ए-सुन्नत वल जमात ने अल्पसंख्यक शिया मसलक के विरूद्ध रैलियां निकालीं जिसमें हजारों की संख्या में लोगों ने भाग लिया।

Pakistani

प्रदर्शन के दौरान लोगों ने शिया मसलक के विरूद्ध ‘शिया काफिर हैं’ जैसे नारे लगाए तथा मुहर्रम के जुलूस पर प्रतिबंध लगाने की भी डिमांड की। पाकिस्तान में शिया मसलक की आबादी 20% है। बीसवीं सदी के मध्य से शिया मसलक के लोगों को सुन्नी चरमपंथी समूहों अहले-सुन्नत वल जमात, लश्कर-ए-जंघवी, सिपह-ए-सहावा पाकिस्तान के अत्याचारों का निशाना बनना पड़ रहा है। ये सभी ग्रुप ईशनिंदा को लेकर शिया मसलक के लोगों को अपना निवाला बनाते हैं।

हाल के दिनों में, शिया मसलक के विरूद्ध नफरत और हिंसा फिर से बढ़ती नजर आ रही है। सोशल मीडिया पर एक यूजर ने रैली का वीडियो शेयर किया है जहां पर पाकिस्तानियों को ‘शिया काफिर हैं’ जैसे नारे लगाते सुना जा सकता है। ट्विटर यूजर ने दावा किया कि इमामिया लाइन्स एरिया में इमामबाड़ा पर कट्टरपंथी सुन्नी पार्टी के सदस्यों ने हमला भी किया।

सोशल मीडिया के एक अन्य यूजर ने बताया कि विरोधियों के हाथ में आतंकवादी संगठन ASWJ/SSP के पोस्टर्स थे। ये आतंकी संगठन ही पाकिस्तान में शिया समुदाय के लोगों की हत्या के जिम्मेदार रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *