7 जून का इतिहास : आज के दिन गांधीजी को धक्के देकर ट्रेन से उतारा गया था, पढ़ें पूरा घटनाक्रम

07 जून राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सविनय अवज्ञा के लिए जाना जाता है, जब उन्होंने पहली बार इसे आजमाया। हुआ यह कि 1893 में महात्मा गांधी एक साल के कॉन्ट्रैक्ट पर वकालत करने दक्षिण अफ्रीका गए और वहां नटाल प्रांत में रह रहे थे।

 07 जून राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सविनय अवज्ञा के लिए जाना जाता है, जब उन्होंने पहली बार इसे आजमाया। हुआ यह कि 1893 में महात्मा गांधी एक साल के कॉन्ट्रैक्ट पर वकालत करने दक्षिण अफ्रीका गए और वहां नटाल प्रांत में रह रहे थे। एकदिन वे वैध टिकट के साथ एक ट्रेन के फर्स्ट क्लास कम्पार्टमेंट में सफ़र कर रहे थे लेकिन इसी दौरान उन्हें नस्लभेद का सामना करना पड़ा। गोरी चमड़ी नहीं होने के कारण रेलवे अधिकारियों ने उनसे थर्ड क्लास डिब्बे में जाने को कहा। गांधीजी ने यह कहते हुए आदेश मानने से साफ इनकार कर दिया कि अगर वे चाहें तो उन्हें डिब्बे से बाहर फेंक दें लेकिन वे अपनी मर्जी से हरगिज बाहर नहीं जाएंगे। हुआ भी ऐसा ही। ट्रेन पीटरमारिट्जबर्ग स्टेशन पहुंची, उन्हें धक्के देकर नीचे उतार दिया गया।
Gandhiji
वह 7 जून की तारीख़ थी। कड़ाके की सर्दी पड़ रही थी और वे स्टेशन के वेटिंग रूम में पहुंचे। पूरी रात यह सोचते हुए जागते रहे कि इसका प्रतिकार कैसे किया जाए। एकबार इरादा किया कि वे बिना कोई प्रतिक्रिया दिये स्वदेश लौट जाएं लेकिन आखिरकार निर्णय लिया कि दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय के खिलाफ हो रहे जुल्मों को लेकर लोगों को एकजुट करेंगे। इस घटना ने गांधीजी की जीवनधारा पूरी तरह से बदलकर रख दी। यहीं से उनमें सविनय अवज्ञा की नींव पड़ी जो आंदोलन का रूप लेकर न सिर्फ दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय को उसका हक दिलाने में कामयाब रहा, बल्कि भारत में भी अंग्रेजी हकूमत के खिलाफ प्रभावी रहा।

अन्य अहम घटनाएंः

1539ः बक्सर के निकट चौसा की लड़ाई में अफगान शेरशाह सूरी ने मुगल बादशाह हुमायूं को शिकस्त दी।
1631ः मुगल बादशाह शाहजहां की बीवी मुमताज बेगम की बुरहानपुर में 39 वर्ष की आयु में मृत्यु हो गयी।
1914ः प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक, पटकथा लेखक और उर्दू लेखक ख्वाजा अहमद अब्बास का जन्म।
1974ः भारत के प्रसिद्ध टेनिस खिलाड़ी महेश भूपति का जन्म।
1989ः भारत के दूसरे उपग्रह भास्कर प्रथम का सोवियत रॉकेट से प्रक्षेपण किया गया।
1995ः नार्मन थेगार्ड अंतरिक्ष की कक्षा में सबसे लंबे समय तक रहने वाले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री बने।
2006ः भारत ने नेपाल को आर्थिक पुनर्निर्माण के लिए एक अरुब रुपये देने का निर्णय किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *