बदलते मौसम में सर्दी-खांसी और जुकाम से हैं परेशान तो जरुर करें ये उपाए

अक्सर समर के मौसम में लोगों को सर्दी-खांसी और जुकाम का सामना करना पड़ता हैं क्योंकि जब हम बारिश में कभी- कभी भींग जातें हैं

अक्सर समर के मौसम में लोगों को सर्दी-खांसी और जुकाम का सामना करना पड़ता हैं क्योंकि जब हम बारिश में कभी- कभी भींग जातें हैं तो हमको सर्दी लग ही जाती हैं और जुकाम समेत कई फ्लू का खतरा बढ़ जाता है। इस मौसम में मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया और ज़ीका वायरस समेत कई बीमारियां दस्तक देती हैं। ये बीमारियां मच्छरों के काटने से होती हैं।

cold cough

मच्छरों से बचने के लिए बाजू बंद वाले कपड़े पहनें और मॉस्क्यूटो रेपलेंट का इस्तेमाल करें। बरसात के दिनों में सर्दी-खांसी और जुकाम से बचाव के लिए पानी उबालकर पिएं।

साथ ही रोजाना काढ़ा जरूर पिएं। इसके अतिरिक्त, डाइट में इम्यून सिस्टम मजबूत करनी वाली चीजों को शामिल करें। विशेषज्ञों की मानें तो लगातार 2 सप्ताह तक सर्दी-खांसी सही न होने पर डॉक्टर से अवश्य सलाह लें।

खासकर कोरोना काल में पुरानी खांसी को इग्नोर न करें। अगर आप भी पुरानी खांसी से परेशान हैं और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इन चीजों का सेवन करें। आइए जानते हैं-

काली मिर्च का सेवन करें

विशेषज्ञों की मानें तो काली मिर्च कई रोगों में दवा समान है। खासकर बदलते मौसम में होने वाली सर्दी खासीं के लिए रामबाण औषधि है। इसमें मैंगनीज, तांबा, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, पोटेशियम, विटामिन-सी, के, बी6 और रिबोफ्लेविन पाए जाते हैं, जो कई प्रकार की बीमारियों में फायदेमंद होते हैं। इसके लिए पुरानी खांसी से निजात पाने के लिए काली मिर्च का सेवन कर सकते हैं।

शहद का सेवन करें

शहद में नायसिन, विटामिन बी-6, विटामिन सी कार्बोहाइड्रेट, राइबोफ्लेविन, और एमिनो एसिड पाए जाते हैं। डॉक्टर मधुमेह के मरीजों को मिठास के लिए शहद खाने की सलाह देते हैं। हालांकि, इसके सेवन से पहले डॉक्टर से जरूर सलाह लें। शहद के सेवन से गले की खराश में तत्काल आराम मिलता है।

कैसे करें सेवन

इसके लिए सबसे पहले एक गिलास पानी को अच्छी तरह से उबालें। अब इसमें काली मिर्च स्वादानुसार मिक्स करें। अब पानी को उतारकर इसमें दो चम्मच शहद मिला दें। कुछ पल बाद काली मिर्च को छानकर चाय का आनंद उठाएं। इससे पुरानी खांसी में बहुत जल्द आराम मिलता है।

डिस्क्लेमर

यह प्रक्रिया टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *