इस विभाग में जल्द निकलेंगी 10 हजार सरकारी नौकरियां, उत्तराखंड सीएम ने किया बड़ा ऐलान

उत्तराखंड सीएम ने कहा- पौधरोपण के साथ ही उनकी सुरक्षा पर ध्यान देना जरूरी

देहरादून॥ मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में बुधवार को यहां सचिवालय में उत्तराखंड कम्पेनसेटरी एफोर्सटेशन फंड मैनेजमेंट ऐंड प्लानिंग अथॉरिटी (कैम्पा) की बैठक हुई। मुख्यमंत्री ने कहा कि वन विभाग के माध्यम से 10 हजार लोगों को रोजगार दिया जाए। वनों के विकास के लिए पौधरोपण के साथ-साथ उनकी सुरक्षा पर भी ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।

cm trivendra singh rawat

पौधों का सर्वाइवल रेट बढ़ाने के लिए लगातार मॉनिटरिंग की जानी चाहिए। इसके लिए अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वन विभाग रोजगार सृजन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। उन्होंने कहा कि कोरोना के दृष्टिगत गांवों को लौटे प्रदेशवासियों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए जल संरक्षण, पौधरोपण, नर्सरी विकास एवं वन सम्पत्ति की सुरक्षा के क्षेत्र में रोजगार सृजित किए जा सकते हैं।

उन्होंने कहा कि अपने प्रदेश को लौटे लोगों को रोजगार की आवश्यकता है। राज्य सरकार द्वारा लगभग 10 हजार लोगों को ऊर्जा विभाग के माध्यम से 25 वॉट के सोलर प्लांट्स के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। वन विभाग द्वारा भी कम से कम 10 हजार लोगों को रोजगार देने के प्रयास किए जाएं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे हमारे गांव एवं हमारे वन दोनों लाभान्वित होंगे। मुख्यमंत्री ने बुग्यालों के संवर्द्धन के लिए काॅयर नेट और पिरूल चेकडैम के साथ ही भीमल के इस्तेमाल पर ध्यान देने की बात कही। उन्होंने कहा कि वन्य पशुओं से सुरक्षा के लिए सोलर फेंसिंग बहुत ही कारगर है परन्तु सोलर फेंसिंग की सुरक्षा के लिए लोगों को भी जागरूक किए जाने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि मानव वन्यजीव संघर्ष रोकथाम के लिए विशेष प्रयास किए जाने चाहिए। जल संवर्धन के लिए वन विभाग द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि जल संवर्धन के लिए चेकडैम, चालखाल एवं ट्रेंच निर्माण के अच्छे परिणाम रहे हैं। वनमंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कहा कि वन विभाग द्वारा वनों के संरक्षण एवं संवर्धन के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। श्रम विभाग द्वारा लगभग 10 हजार लोगों को भीमल के लिए प्रशिक्षण दिया गया था।

इन प्रशिक्षित लोगों का प्रयोग बुग्यालों के संवर्धन के लिए काॅयर नेट और पिरूल चेकडैम आदि के निर्माण के लिए किया जा सकता है। बैठक के दौरान अधिकारियों द्वारा प्रस्तुतीकरण के माध्यम से उत्तराखंड कैम्पा योजना के तहत पिछले तीन वर्षों का ब्यौरा प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव वन आनन्द वर्धन, प्रमुख वन संरक्षक जयराज, सचिव अमित नेगी एवं वन विभाग के उच्चाधिकारी उपस्थित रहे।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *