आ गई भारत की बिना सुई वाली कोरोना वैक्सीन, जानें इस टीके के बारे में एक-एक बात

इस वैक्सीन में सुई की जरूरत नहीं पड़ती। बिना सुई वाले इंजेक्शन में दवा भरी जाती है, फिर उसे एक मशीन में लगाकर बांह पर लगाते हैं

अहमदाबाद स्थित फार्मास्युटिकल फर्म Zydus Cadila ने गुरुवार को घोषणा की कि उसने ZyCoV-D के लिए आपातकालीन इस्तेमाल के लिए सरकार से मंजूरी मांगी है। ये वैक्सीन काफी कारगर साबित हो सकती है।

Zydus Cadila

ये भारत बायोटेक के कोवैक्सिन के बाद नोवेल कोरोनावायरस के विरूद्ध देश का दूसरा स्वदेशी रूप से विकसित टीका होगा। यदि ZyCoV-D को मंजूरी मिल जाती है, तो यह Covisheeld, Covaxin, Sputnik V और Moderna के बाद भारत में उपयोग के लिए अधिकृत पांचवां टीका होगा।

टीके का अतिरिक्त लाभ यह है कि यह भारत में पहला कोविड-19 वैक्सीन होगा जिसका परीक्षण 12-18 वर्ष आयु वर्ग में किशोर आबादी में किया गया है। कंपनी की योजना सालाना 120 मिलियन खुराक तक उत्पादन करने की है।

अब तक, Zydus ने 50 से अधिक केंद्रों पर अपने प्लास्मिड डीएनए वैक्सीन के लिए 28,000 से अधिक स्वयंसेवकों की भर्ती करके – सबसे बड़ा नैदानिक ​​परीक्षण किया है।

ऐसे काम करती है ये वैक्सीन

ZyCoV-D एक ‘डीएनए वैक्सीन’ है जो शरीर की कोशिकाओं में नोवेल कोरोनावायरस के प्रवेश के लिए जिम्मेदार प्रमुख वायरल झिल्ली प्रोटीन के विरूद्ध काम करता है। बता दें कि इस वैक्सीन में सुई की जरूरत नहीं पड़ती। बिना सुई वाले इंजेक्शन में दवा भरी जाती है, फिर उसे एक मशीन में लगाकर बांह पर लगाते हैं।

यह प्लास्मिड डीएनए पर आधारित है, एक छोटा, गोलाकार और एक्स्ट्राक्रोमोसोमल जीवाणु डीएनए, जिसका उपयोग आनुवंशिक इंजीनियरिंग में किया जाता है।

एक मीडिया संस्थान ने 18 जून को रिपोर्ट दी थी कि जाइडस कैडिला ने भारत सरकार से कहा है कि वह अगले 10-12 दिनों के भीतर एक आपातकालीन उपयोग के लिए एक और वैक्सीन तैयार हो जाएगी।

एक वरिष्ठ सरकारी अफसर ने पिछले महीने मीडिया संस्थान को बताया, “ज़ाइडस कैडिला ने हमें बताया है कि वे अगले 10-12 दिनों के भीतर आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण के लिए आवेदन करेंगे ताकि हम जल्द ही एक और स्वदेशी वैक्सीन की उम्मीद कर सकें।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *