50 बच्चों के साथ जेई ने किया ‘गंदा’ काम, CBI ने किया गिरफ्तार, पत्नी बोली-पति मेरे…

सीबीआई की टीम ने आरोपी को जजी परिसर की नई बिल्डिंग में स्थित न्यायालय में आरोपी को पेश किया। आरोपी उस समय तौलिया से अपने मुंह को ढके हुए था।बता दें कि चित्रकूट में तैनात सिंचाई विभाग के जेई राम भवन पर करीब आधा सैकड़ा बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न करने व अश्लील वीडियो व फोटो बनाकर बेचने का आरोप है। 

बांदा। आधा सैकड़ा बच्चों के साथ यौन शोषण के आरोपी जेई को आज केंद्रीय जांच ब्यूरो ने बांदा जनपद में न्यायालय में पेश किया और आरोपी को रिमांड में देने की मांग की लेकिन न्यायालय ने आज रिमांड न देते हुए इस मामले में कल बहस की तारीख लगा दी है।
JE accused in sexual exploitation of children

सीबीआई की टीम ने आरोपी को जजी परिसर की नई बिल्डिंग में स्थित न्यायालय में आरोपी को पेश किया। आरोपी उस समय तौलिया से अपने मुंह को ढके हुए था।बता दें कि चित्रकूट में तैनात सिंचाई विभाग के जेई राम भवन पर करीब आधा सैकड़ा बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न करने व अश्लील वीडियो व फोटो बनाकर बेचने का आरोप है।
सूत्रों की माने तो, सीबीआई ने स्वतः इस मामले को संज्ञान में लिया है। जिसको लेकर सीबीआई ने जेई को गिरफ्तार किया है। अभी तक जेई के खिलाफ कहीं भी मामला दर्ज नहीं है।
सूत्र बताते हैं कि, बहुत सी जानकारियां एकत्रित करने के लिए सीबीआई जेई को 5 दिन की रिमांड में लेना चाहती है। जिसके लिए उसे आज बांदा कोर्ट में पेश किया गया। इस दौरान बांदा कचहरी परिसर में भीड़ भाड़ का माहौल रहा और सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस बल भी तैनात रहा। इस बीच अधिवक्ता के वकील देवदत्त त्रिपाठी ने बताया कि सीबीआई ने जेई  रामभवन को उनके घर से गिरफ्तार कर करीब 12 लाख रुपये नगद, जेवर व सरकारी कागजात लेकर बरामदगी में सिर्फ आठ लाख रुपया दिखाया है और उन पर किशोर बच्चों के साथ यौन शोषण का आरोप लगाया है।
उनकी पत्नी जो प्रयागराज की रहने वाली हैं ने सीबीआई के सारे आरोपों को खारिज किया और कहा कि सीबीआई ने उनके पति को झूठे मुकदमे में फंसाया है। अधिवक्ता ने बताया कि सीबीआई ने न सिर्फ जेई राम भवन पर यौन शोषण का आरोप लगाया है बल्कि यौन शोषण से संबंधित वीडियो आदि विदेशों में बेचने का आरोप भी लगाया है।
अधिवक्ता के मुताबिक, सीबीआई इस मामले में जेई का रिमांड लेना चाहती है जबकि हमने इसका विरोध किया है, जेई बेकसूर है। वह सरकारी कर्मचारी है सीबीआई उन्हें किस आधार पर धारा 377 का आरोपी बता रही है इसके बारे में कल बहस होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *