Kushinagar : 13 फरवरी तक चलेगा कुष्ठ जागरूकता अभियान और पखवाड़ा

रामधाम कुष्ठ कालोनी के कुष्ठ रोगियों के बीच फल और दवा वितरित, 'कुष्ठ के विरुद्ध आखिरी युद्ध' की थीम पर चल रहा जागरूकता अभियान

कुशीनगर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्य तिथि से शुरू कुष्ठ जागरूकता अभियान एवं पखवाड़ा 13 फरवरी तक चलेगा। अभियान के तहत समाज में कुष्ठ के प्रति फैली भ्रांतियों को मिटाया जाएगा। “कुष्ठ के विरुद्ध आखिरी युद्ध ” थीम पर चलाए जा रहे अभियान के पहले दिन सीएमओ कार्यालय में गोष्ठी आयोजित कर सीएमओ डाॅ. नरेन्द्र गुप्ता ने जिलाधिकारी के संदेश को सुनाया तथा संकल्प दिलाया। साथ ही जागरूकता अभियान एवं पखवाड़ा को ठीक से चलाने का निर्देश दिया।

Leprosy Awareness Campaign

कुष्ठ रोगियों के बीच फल और दवाइयां वितरित की

इसके बाद जिला कुष्ठ अधिकारी डाॅ. वीके वर्मा, जिला परामर्शदाता डाॅ. विनोद कुमार मिश्र, डब्ल्यूएचओ के जोनल कोर्डिनेटर डाॅ. सागर घोडेकर, एनएमए दिग्विजय तिवारी, मुर्तुजा हुसेन तथा फिजियोथिरेपिस्ट प्रदीप गुप्ता रामधाम कुष्ठ कालोनी पहुंचे । वहां पर सभी अधिकारियों ने कुष्ठ रोगियों के बीच फल और दवाइयां वितरित की।

जिला परामर्शदाता डाॅ.विनोद कुमार मिश्र बोले

वही पर जिला परामर्शदाता डाॅ.विनोद कुमार मिश्र ने कालोनी तथा आसपास रहने वाले लोगों को कुष्ठ रोग के भ्रांतियों के बारे में बताया। कहा कि समाज में अभी भी कुछ लोगों को यह अंधविश्वास है कि कुष्ठ रोग वंशानुगत कारणों, अनैतिक आचरण, अशुद्ध रक्त, खानपान की गलत आदतों से कुष्ठ रोग होता है। यह पूर्णतया गलत तथ्य है।
उन्होंने जन समुदाय से अपील की है कि कुष्ठ रोग की पहचान आसानी से की जा सकती है। यदि किसी व्यक्ति को कुष्ठ रोग के लक्षण दिखे तो तत्काल नजदीक के सरकारी अस्पताल पर जाकर इलाज शुरू करा दें। कुष्ठ रोग से डरने नहीं बल्कि इलाज कराने की जरूरत है। इलाज न कराने पर प्रभावित अंगों में दिव्यांगता हो सकती है।

कुष्ठ रोग के लक्षण

  1. शरीर पर हल्के तांबा रंग के चकत्ते हो जाना।
  2. शरीर के किसी स्थान पर सुन्नापन हो जाना।
  3. सुई लगने पर दर्द महसूस न होना।
  4. हथेली अथवा पैर के तलवे में भी सुन्नापन हो तो कुष्ठ की जांच अवश्य कराएं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *