डूब गए ममता का साथ छोड़ कमल पर सवार होने वाले विधायक !

2019 के लोकसभा चुनाव में जब BJP ने 42 में से 18 सीटों पर जीत दर्ज की थी, तब सभी को लगा था कि 2021 के चुनाव में ममता को अपनी सरकार बचाए रखना मुश्किल होगा।

राजनीतिक रस्साकशी के मामले में बंगाल हर बार देश को चौंकाता रहा है और इस बार भी विधानसभा चुनाव के नतीजे पूरे देश में अप्रत्याशित हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में जब BJP ने 42 में से 18 सीटों पर जीत दर्ज की थी, तब सभी को लगा था कि 2021 के चुनाव में ममता को अपनी सरकार बचाए रखना मुश्किल होगा।

Mamata Banerjee 1

इन अटकलों को और भी बल तब मिला था जब ममता के कई बड़े साथी और सियासत के धुरंधर सत्तारूढ़ पार्टी का साथ छोड़कर BJP के साथ हो लिए थे। किंतु अब जब चुनाव परिणाम आ चुके हैं तो साफ हो गया है कि ममता का हाथ छोड़कर कमल पर सवार होने वाले अधिकतर विधायक डूब चुके हैं।

चुनाव से पहले बड़ी संख्या में TMC के नेता ममता का साथ छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे। हालांकि शुभेंदु अफसर सहित तृणमूल छोड़कर BJP में शामिल हुए कुछ उम्मीदवारों ने अपने तृणमूल प्रतिद्वंद्वियों से बेहतर प्रदर्शन किया। शुभेंदु अधिकारी ने सीएम ममता बनर्जी को नजदीकी मुकाबले में हराया, किंतु राज्य के पूर्व मंत्री राजीब बनर्जी, सिंगुर से पूर्व विधायक रवींद्रनाथ भट्टाचार्य, अभिनेता रूद्रनील घोष और हावड़ा के पूर्व महापौर रथिन चक्रवर्ती चुनाव हार गए।

इस साल की शुरुआत में पार्टी बदलने वाले बनर्जी राजीब हावड़ा जिले की डोमजूर विधानसभा सीट से चुनाव हार गए। इसके पहले वह लगातार दो बार चुनाव जीते थे। 2016 में तो वह सबसे ज्यादा मतों से चुनाव जीतने वाले विधायक बने थे। किंतु इस बार वह तृणमूल के कल्याण घोष से 42 हजार,620 मतों से हार गये। चुनाव में टिकट नहीं मिलने के बाद तृणमूल छोड़ने वाले भट्टाचार्य को सिंगुर से सत्तारूढ़ पार्टी के उम्मीदवार बेचाराम मन्ना ने करीब 26 हजार वोट से शिकस्त दी। BJP उम्मीदवार इस सीट से पुनर्मतदान की मांग कर रहे हैं।

ममता बनर्जी सत्ता में आयीं

टाटा की छोटी कार परियोजना को हटाने के लिए किसानों के आंदोलन के बाद हुगली जिले का सिंगुर भारतीय राजनीति के नक्शे पर अंकित हो गया था। सिंगुर और नंदीग्राम ने 34 साल के वाम मोर्चे के शासन के आधार को हिलाकर रख दिया था, जिसके कारण 2011 में तृणमूल सुप्रीमो ममता बनर्जी सत्ता में आयीं।

रुद्रानिल घोष हाल में BJP में शामिल हुए थे, उन्हें तृणमूल के नेता शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने भवानीपुर से करीब 28 हजार वोट से शिकस्त दी। इस सीट को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने खाली किया था। इसी तरह रथिन चक्रवर्ती तृणमूल के नेतृत्व वाले हावड़ा नगर निगम में महापौर थे किंतु चुनाव से पहले वह पार्टी छोड़कर BJP में शामिल हो गये। उन्हें क्रिकेटर से नेता बने मनोज तिवारी ने शिवपुर से 32 हजार वोट से शिकस्त दी।

हालांकि 2017 में BJP में शामिल हुए पार्टी उपाध्यक्ष मुकुल रॉय कृष्णानगर उत्तर से विजयी रहे। उन्होंने तृणमूल उम्मीदवार कौशानी मुखर्जी को 35 हजार मतों के अंतर से हराया। कुछ महीने पहले BJP में शामिल हुए मिहिर गोस्वामी ने भी तृणमूल उम्मीदवार रवींद्रनाथ घोष को हराकर नाताबाड़ी सीट से जीत दर्ज की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *