शहीद धीरेन्द्र का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार, मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

जम्मू कश्मीर में दो दिन पहले शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान धीरेन्द्र त्रिपाठी का बुधवार को राजकीय सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव पड़िया में अंतिम संस्कार हुआ

सतना, 07 अक्टूबर यूपी किरण। जम्मू कश्मीर में दो दिन पहले शहीद हुए सीआरपीएफ के जवान धीरेन्द्र त्रिपाठी का बुधवार को राजकीय सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव पड़िया में अंतिम संस्कार हुआ। शहीद के पार्थिव शरीर को उनके तीन वर्षीय मासूम बेटे कान्हा ने मुखाग्नि दी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्राम पड़िया पहुंचकर शहीद धीरेन्द्र त्रिपाठी के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

बता दें कि सतना जिले के ग्राम पडिया निवासी धीरेन्द्र त्रिपाठी सीआरपीएफ में पदस्थ थे। गत सोमवार को जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले में वे शहीद हो गए थे। बुधवार सुबह उनकी पार्थिव देह सेना के जवानों द्वारा पैतृक गांव लायी गयी।  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को अनेक जनप्रतिनिधियों के साथ गांव पड़िया पहुंचे और शहीद धीरेन्द्र त्रिपाठी को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने पार्थिव शरीर एवं पुष्प-चक्र अर्पित किये।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वर्गीय धीरेन्द्र जी ने भारत माता की सीमाओं की रक्षा करते हुए अपना जीवन बलिदान कर दिया। ऐसे अमर शहीद के चरणों में मध्यप्रदेश के समस्त नागरिकों की ओर से श्रद्धा-सुमन अर्पित करता हूँ। उन्होंने कहा कि भारत माता के सच्चे सपूत शहीद स्व. त्रिपाठी के परिवार को श्रद्धानिधि एक करोड़ रुपये प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहीद स्व. त्रिपाठी को वापस तो नहीं लाया जा सकता लेकिन राज्य शासन शहीद परिवार के साथ खड़ा है। स्व. त्रिपाठी की पत्नी अथवा परिवार की इच्छानुसार किसी एक परिजन को शासकीय सेवा प्रदान की जाएगी। विद्यालय अथवा किसी संस्थान का नाम शहीद स्व. त्रिपाठी के नाम पर किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने शहीद स्व. धीरेन्द्र त्रिपाठी के पिता रामकलेश त्रिपाठी, माँ उर्मिला त्रिपाठी और शहीद की पत्नी साधना त्रिपाठी को सांत्वना दी। उन्होंने शहीद स्व. त्रिपाठी के तीन साल के बेटे कान्हा के सिर पर हाथ फेर कर दुलार किया और अन्य परिजनों से भी चर्चा की। अमर शहीद धीरेन्द्र त्रिपाठी का सैनिक सम्मान के साथ उनके गृह-ग्राम पड़िया में अंतिम संस्कार किया गया।

शहीद की प्रतिमा स्थापना

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्राम के शासकीय विद्यालय अथवा शहीद के परिवार और स्थानीय जनप्रतिनिधियों के परामर्श से निर्धारित किए गए स्थान पर शहीद स्व. धीरेन्द्र त्रिपाठी की प्रतिमा स्थापित की जाएगी ताकि आने वाली पीढ़ी इस शहीद की शहादत से प्रेरणा ले सके और साहस तथा राष्ट्रप्रेम के विचार को और सशक्त बनाया जा सके।

शहादत की यह घटना दो दिवस पहले की है। जब सीआरपीएफ की 110वीं बटालियन लेथपुरा पुलवामा में पदस्थ धीरेन्द्र त्रिपाठी, शाम करीब 5 बजे ऑपरेशनल ड्यूटी के दौरान मोर्चे पर डटे थे। उसी समय आतंकवादियों द्वारा किये गए कायराना हमले में भारतीय सेना के जवान गंभीर रूप से घायल हुए। धीरेन्द्र त्रिपाठी इस हमले में वीरगति को प्राप्त हुए। यह हमला उस समय किया गया जब जवान अपनी ड्यूटी सफलतापूर्वक समाप्त कर वापस कैम्प के लिए आ रहे थे। हमले में त्रिपाठी के अलावा उत्तरप्रदेश के रायबरेली केशैलेन्द्र प्रताप सिंह भी शहीद हुए। इस घटना में तीन अन्य जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं।
मुख्यमंत्री के साथ चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री राम खेलावन पटेल, सांसद रीवा जनार्दन मिश्रा, पूर्व मंत्री एवं रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ला, विधायक जुगल किशोर बागरी, भाजपा अध्यक्ष नारेन्द त्रिपाठी, कमिश्नर रीवा संभाग राजेश कुमार जैन, सीआरपीएफ डीआईजी प्रमोद कुमार पाण्डेय, कलेक्टर अजय कटेसरिया, पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत ऋजु बाफना, अपर कलेक्टर विमलेश सिंह, एडिशनल एसपी गौतम सोलंकी, पूर्व विधायक सुरेन्द्र सिंह गहरवार, उमेश प्रताप सिंह, विधायक के.पी. त्रिपाठी,  विधायक दिव्यराज सिंह, सैन्य दल, पुलिस के जवान, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *