सारथी के रूप में भाजपा से राजनीति शुरू करने वाले मोदी विश्व में ताकतवर नेता के रूप में शुमार

आज उस नेता का जन्मदिन है जिन्होंने गुजरात की धरती से निकलकर देश ही नहीं बल्कि दुनिया की राजनीति मेंअपना अलग मुकाम बनाया हुआ है।

आज उस नेता का जन्मदिन है जिन्होंने गुजरात की धरती से निकलकर देश ही नहीं बल्कि दुनिया की राजनीति मेंअपना अलग मुकाम बनाया हुआ है । जबसे उन्होंने केंद्र की सत्ता संभाली है तब से उनका कद और ताकत लगातार बढ़ती चली गई । आज वे ‘विश्व के ताकतवर नेताओं में शुमार हैं’ ।

Pm modi

अमेरिका, फ्रांस, इजराइल, रूस, ऑस्ट्रेलिया, जापान, इंग्लैंड, जर्मनी, समेत दुनिया के तमाम देशों के राष्ट्राध्यक्ष इनको ‘चमत्कारिक नेता’ के रूप में देखते हैं । यही नहीं भारत का पड़ोसी चीन और पाकिस्तान भी इनसे टकराने का साहस नहीं कर पा रहे हैं । जी हां हम बात कर रहे हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की । पीएम मोदी आज 70 वर्ष के पूरे हो चुके हैं ।

17 सितंबर 1950 को गुजरात के मेहसाणा जिले के वडन नगर में बेहद ही साधारण परिवार में जन्मे नरेंद्र दामोदरदास मोदी भारतीय जनता पार्टी को ऊंचाइयों पर ले गए । नरेंद्र मोदी ने अपना राजनीतिक करियर जमीनी नेता के रूप में शुरू किया था । 80 के दशक में मोदी ने गुजरात से भारतीय जनता पार्टी में अपनी पारी की शुरुआत उस दौर के दिग्गज नेता अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर के ‘सारथी’ के रूप में की थी ।

इस दौरान वह अपनी मेहनत और काबिलियत से आगे बढ़ते चले गए । उसके बाद उन्होंने 7 अक्टूबर वर्ष 2001 में गुजरात की सत्ता संभाली और 2014 तक लगातार एकछत्र शासन किया । गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए नरेंद्र मोदी ने अपने आप को केंद्र की राजनीति के लिए भी तैयार कर लिया था ।

गुजरात की राजनीति से ही मोदी ने केंद्र में जाने के लिए तैयार कर लिया था—-

गुजरात में मोदी का कद इतना बढ़ गया था कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी को इनकी अगुवाई में ही चुनाव लड़ना पड़ा । इसी वर्ष भारतीय जनता पार्टी के गोवा में आयोजित कार्यकारणी बैठक के दौरान नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए भी नॉमिनेट कर दिया गया था । 2014 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई और नरेंद्र मोदी ने पहली बार प्रधानमंत्री पद की शपथ ली ।

केंद्र की सत्ता संभालने बाद मोदी ने भाजपा को देश ही नहीं बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनाने में अहम भूमिका निभाई । प्रधानमंत्री कार्यकाल में मोदी ने बेहद ही कठोर फैसले लिए । अपनी शानदार कूटनीति की बदौलत पीएम मोदी भारत को भी विश्व पटल पर ऊंचाइयों पर ले गए ।

वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी एक बार फिर चमत्कारिक नेता के रूप में उभरे और इस बार भारतीय जनता पार्टी का लोकसभा सीटों का आंकड़ा 300 से पार पहुंचा दिया । ‘राजनीति की हर विधा में मास्ट्टर’ हो चुके पीएम मोदी अपने सियासी दांव से विरोधियों को पटखनी देते रहे हैं ।

भारत ही नहीं बल्कि विदेशों के भी राष्ट्राध्यक्ष पीएम मोदी के हैं कायल—

पीएम मोदी न सिर्फ आज भारत में बल्कि विदेशों में भी काफी लोकप्रिय हैं, इसकी बानगी उनके ट्विटर पर फॉलोअर्स की संख्या से देखी जा सकती है। मोदी दुनिया के तीन सबसे बड़े नेताओं में से एक हैं। मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन के साथ इजरायल, ब्रिटेन समेत कई देशों के दिग्गज नेताओं को पीछे छोड़ दिया है।

पीएम मोदी जब विदेश दौरों पर जाते हैं, उनका रूतबा देखते बनता है। यही वजह है कि पीएम मोदी के विदेशी नेता भी मुरीद हैं। नरेंद्र मोदी को लेकर समय-समय पर विदेशी नेताओं ने तारीफ की है । अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा कहते हैं कि नरेंद्र मोदी प्राचीनता और आधुनिकता की ऊंचाई पर पहुंच चुके हैं। वे योग के साधक हैं जो टि्वटर के जरिये आम भारतीयों से संवाद करते हैं और उन्होंने डिजिटल इंडिया की कल्पना की है।

वर्तमान में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि पीएम मोदी से मिलना शानदार है। भारत एक महान देश है और वे एक महान व्यक्ति हैं। वे अपने देश को बहुत प्यार और सम्मान करते हैं। यहां हम आपको बता दें कि ट्रंप और मोदी की दोस्ती विश्व राजनीति में पिछले कुछ समय से सुर्खियों में बनी हुई है । रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन मोदी के मुरीद हैं ।

राष्ट्रपति पुतिन का कहना है कि सबसे अहम बात विश्वास और दोस्ती है जो हम लोगों और हमारे देश के बीच बनी हुई है। मुझे नरेंद्र मोदी मिलकर द्विपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय संबंधों के पूरे स्पेक्ट्रम पर चर्चा करना अच्छा लगता है। दूसरी ओर मोदी के एक और दोस्त हैं इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ।

नेतन्याहू मोदी बारे में कहते हैं, हमारी मजबूत दोस्ती और लगातार बढ़ रहा आपसी सहयोग महान ऊंचाइयों पर पहुंची, ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे। ऐसे ही ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन और जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे वहीं जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल के साथ मोदी की गहरी मित्रता है । यही नहीं चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक विश्व स्तरीय नेता के रूप में पसंद करते हैं । अभी तक शी जिनपिंग मोदी के बुलावे पर दो बार भारत भी आ चुके हैं ।

देश में भी मोदी की दिवानगी पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों के सिर चढ़कर बोलती है–

देश में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ उनके समर्थकों की दीवानगी सर चढ़ कर बोलती है । चुनावी रैलियों के साथ अन्य आयोजनों में भी मोदी को सुनने के लिए लाखों की भीड़ घंटों इंतजार मैं बैठी रहती है । बोलने में पारंगत पीएम के भाषण देने का अंदाज उन्हें औरों से अलग करता रहा है ।

यही नहीं उनका राष्ट्रवाद प्रेम देशवासियों को खूब भाता है । कोरोना महामारी के दौरान पीएम मोदी ने देश की जनता को कई बार संबोधित किया था । इस महामारी के बचाव और उपाय के लिए मोदी के दिए गए टिप्स को जनता ने बहुत ही गंभीरता से पालन किया । आज पीएम देश की जनता की नब्ज जानते हैं, उन्हें पता है कि देशवासी क्या सुनना पसंद करते हैं ।

सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम, टि्वटर आदि में मोदी के सबसे ज्यादा फॉलोअर्स हैं । हर साल मोदी के जन्मदिन पर लाखों-करोड़ों उनके प्रशंसक उल्लास और उमंग के साथ शुभकामनाएं और बधाई संदेश भेजते हैं । इस बार भी पीएम मोदी के 70वें जन्मदिन पर भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ लाखों समर्थकों में दीवानगी छाई हुई है ।

दूसरी ओर भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के अवसर पर सेवा कार्यों का संचालन शुरू कर दिया है । भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि 20 सिंतबर तक सेवा कार्यों का सिलसिला चलेगा । उन्होंने कहा कि इस बार कोरोना की गंभीर चुनौती है तो पार्टी ने कोविड संक्रमितों को प्लाज्मा की व्यवस्था के लिए रक्तदान शिविरों के आयोजन करने के निर्देश दिए हैं । बता दें कि राष्ट्रीय स्तर से लेकर प्रदेश, जिला और मंडल स्तर पर सेवा कार्य आयोजित होंगे ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *