रोजाना 50 से ज्यादा जापानी फौजी इन महिलाओं के साथ करते थे दुष्कर्म, अब कोर्ट ने सुनाया ये फैसला

साउथ कोरिया की राजधानी सियोल के सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने शुक्रवार को अपने निर्णय में कहा कि जापान से 12 महिलाओं को 66-66 लाख रुपए दिए जाने चाहिए।

साउथ कोरिया की एक कोर्ट ने दशकों से उन औरतों के हक में फैसला सुनाया है जिनके साथ सेकेंड वर्ल्ड वार के दौरान जापानी सैनिकों ने रोजाना दुष्कर्म किया था। साउथ कोरिया की राजधानी सियोल के सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने शुक्रवार को अपने निर्णय में कहा कि जापान से 12 महिलाओं को 66-66 लाख रुपए दिए जाने चाहिए।

japani

सेकेंड वर्ल्ड वार के दौरान, जापानी फौजियों ने साउथ कोरियाई महिलाओं को एक “सेक्स स्लेव” बनाया। इन महिलाओं को women कम्फर्ट वुमन ’नाम दिया गया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, हर 24 घंटे में तकरीबन 50 जापानी फौजियों ने इन महिलाओं का दुष्कर्म किया।

पीड़ितों में से कई को HIV एड्स था, जबकि कई महिलाएं अनजाने में प्रेग्नेंट भी हो गई थीं। अदालत ने फैसले में कहा कि इन महिलाओं को सेक्स स्लेव बनाना इंसानियत के विरूद्ध जुर्म था। पीड़ित महिलाओं ने 2013 में कोर्ट में एक याचिका दायर की थी।

जापान ने कोर्ट के फैसले का विरोध किया है। जापान ने बताया कि 1965 के समझौते में युद्ध के मुआवजे के मामले को हल कर लिया गया है। किंतु कोर्ट ने बताया कि जापान ने 1910 और 1945 के बीच कोरियाई क्षेत्र पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया था, इस दौरान महिलाओं को सेक्स स्लेव बना दिया गया था। इसलिए, एक स्वायत्त देश होने के बावजूद, जापान इस मामले से बच नहीं सकता है।

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *