मुस्लिम कंट्रियों ने असम में मुस्लिमों के खिलाफ कार्रवाही पर उठाया सवाल, तो हिंदुस्तान ने कहा- बोलने का हक नहीं

हिंदुस्तान ने स्पष्ट कहा कि संगठन के पास मुल्क के आंतरिक मसलों पर बोलने का कोई हक नहीं है

हिंदुस्तान ने असम में बेदखली मिशन से रिलेटेड एक घटना के बारे में भड़काऊ भाषण देने के लिए शुक्रवार को मुस्लिम मुल्कों के गुट इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) की आलोचना की। हिंदुस्तान ने स्पष्ट कहा कि संगठन के पास मुल्क के आंतरिक मसलों पर बोलने का कोई हक नहीं है।

तो वहीं विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता (Foreign Ministry spokesperson) अरिंदम बागची ने बताया कि हिंदुस्तान ऐसे सभी भ्रामक भाषणों को खारिज करता है और उम्मीद करता है कि फ्यूचर में ऐसा कोई संदर्भ नहीं दिया जाएगा।

OIC के बयान पर दिया जवाब

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हिंदुस्तान को इस बात पर अत्यंत खेद हुआ कि OIC ने हिंदुस्तानी प्रदेश असम में दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर तथ्यात्मक रूप से गलत और भ्रामक बयान जारी करके एक बार फिर हिंदुस्तान के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का फैसला किया। वो बीते महीने असम के जनपद दरांग की एक घटना पर OIC की टिप्पणी के बारे में मीडिया के एक प्रश्न का उत्तर दे रहे थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *