मंगल ग्रह से NASA के रोवर ने भेजी पहली ऑडियो क्लिप, लैंडिंग का VIDEO भी जारी, देखें…

अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने सोमवार को मंगल ग्रह से एक आडियो और वीडियो जारी किया है. ऑडियो नासा के पर्सिवियरेंस रोवर द्वारा लिया गया है, जिसमें हवाओं की आवाज रिकॉर्ड हुई है. साथ ही नासा ने लाल ग्रह (मंगल) पर रोवर्स की लैंडिंग का पहला वीडियो भी जारी किया है. 

वाशिंगटन। अमेरिका की स्पेस एजेंसी नासा ने सोमवार को मंगल ग्रह से एक आडियो और वीडियो जारी किया है. ऑडियो नासा के पर्सिवियरेंस रोवर द्वारा लिया गया है, जिसमें हवाओं की आवाज रिकॉर्ड हुई है. साथ ही नासा ने लाल ग्रह (मंगल) पर रोवर्स की लैंडिंग का पहला वीडियो भी जारी किया है.

NASA released first video of rover landing on Mars

https://twitter.com/NASAPersevere/status/1363937472971907072?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1363937472971907072%7Ctwgr%5E%7Ctwcon%5Es1_&ref_url=https%3A%2F%2Fkhabar.ndtv.com%2Fnews%2Fworld%2Fnasa-releases-first-video-of-perseverance-rover-landing-on-mars-shares-audio-clip-2376471

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया कि रोवर की मंगल ग्रह की सतह पर लैंडिंग के दौरान माइक्रोफोन काम नहीं कर रहा था. हालांकि, रोवर के मंगल पर उतरने के साथ ही माइक्रोफोन ऑडियो कैप्चर करने लगा.

पर्सिवियरेंस के कैमरा और माइक्रोफोन सिस्टम के लीड इंजीनियर डेव ग्रुएल ने कहा, “10 सेकंड के ऑडियो में आप जो आवाज सुन रहे हैं दरअसल वह हवा का झोंका है, जिसे मंगल ग्रह की सतह पर माइक्रोफोन द्वारा रिकॉर्ड किया गया और पृथ्वी पर हमें भेजा गया है.”

नासा की ओर से जारी हाई डेफिनेशन वीडियो में, पर्सिवियरेंस रोवर एक लाल और सफेद रंग के पैराशूट के सहारे सतह पर उतरते हुए दिखाई दे रहा है. यह वीडियो 3 मिनट 25 सेकंड का है. इस वीडियो में धूल के अंबार के बीच रोवर को सतह पर लैंड करते हुए दिखाया गया है. नासा के जेट प्रोपल्सन लेबोरेटरी के निदेशक माइकल वाटकिंस ने कहा, “यह पहली बार है जब हमने मार्स पर लैंडिंग जैसे किसी इवेंट को कैप्चर करने में सक्षम हुए हों.” उन्होंने कहा कि ये वाकई में कमाल का वीडियो है.

कहां उतरा है पर्सिवियरेंस रोवर

यह यान जहां उतरा है वह 45 किलोमीटर चौड़ा जेजेरो क्रेटर मंगल ग्रह का अत्यंत दुर्गम इलाका है। यहां गहरी घाटियां, नुकीले पहाड़ और रेत के टीले हैं। ऐसे में नासा रोवर की लैंडिंग पर दुनियाभर के विज्ञानियों की निगाहें टिकी थीं। ऐसा माना जाता है कि जेजेरो क्रेटर पर पहले नदी बहती थी। जो कि एक झील में जाकर मिलती थी। इसके बाद वहां पर पंखे के आकार का डेल्टा बन गया। मिशन के लिए लीडिंग टीम का नेतृत्व करने वाले चैन ने कहा, ‘हमें एक अच्छी समतल भूमि मिली है। इस सपाट स्थान पर यह केवल 1.2 डिग्री झुका हुआ है।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *