OMG: शादी के एक साल तक महिला को नहीं होना चाहिए गर्भवती, यह है कारण

नई दिल्ली: शादी के बाद कई ऐसी बातों का ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि इन्हें लेकर कई धार्मिक मान्यताएं हैं. ऐसे में वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि ”नव-विवाहित जोड़े को शादी के बाद कोई भी काम नहीं करना चाहिए. आज हम आपको उनके बारे में बताने जा रहे हैं।

1. धार्मिक स्थल पर हनीमून :- दरअसल शास्त्रों में कहा गया है कि नवविवाहित जोड़े को कभी भी हनीमून पर किसी धार्मिक स्थान पर नहीं जाना चाहिए। वहीं अगर आप अब भी भगवान के दर्शन करने जाना चाहते हैं तो ध्यान रखें कि उस स्थान का संबंध भगवान शिव से नहीं होना चाहिए।

2. एक वर्ष में हुआ गर्भ:- कहा जाता है कि भले ही भगवान शिव ने पार्वती से विवाह किया था, लेकिन भगवान शिव वैरागी थे। वहीं अगर वह लड़की एक साल के भीतर गर्भ धारण कर लेती है तो कहा जाता है कि पैदा होने वाला बच्चा भी वैरागी हो जाता है।

3. शिवलिंग को छूने से बचें :- ऐसा कहा जाता है कि नवविवाहित लड़की को शादी के एक साल तक शिवलिंग को छूने से बचना चाहिए। साथ ही उन्हें माता पार्वती की पूजा करनी चाहिए और एक साल बाद इससे कोई फर्क नहीं पड़ता।

4. शयन कक्ष की दिशा :- वास्तु शास्त्र के अनुसार नवविवाहित जोड़ों का शयनकक्ष दक्षिण-पश्चिम कोने में होना चाहिए। वहीं इस बात का भी ध्यान रखें कि आपका बेडरूम कभी भी दक्षिण-पूर्व में नहीं होना चाहिए, इससे दोनों के बीच परेशानी हो सकती है।

5. लकड़ी का पलंग :- वास्तु के अनुसार नवविवाहित जोड़े को लकड़ी के बिस्तर पर सोना चाहिए और इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपका सिर दक्षिण-पश्चिम दिशा में हो।

6. कमरे का रंग:- नवविवाहित जोड़ों के कमरे में हरा, नीला, गुलाबी रंग होना चाहिए और इस बात का ध्यान रखें कि कमरे का रंग लाल न हो.