कोरोना से संक्रमित हो चुके लोगों को टीके लगाने की जरूरत नहीं, जानें क्या कहती है नई रिसर्च

वैक्सीनेशन पर रिपोर्ट तैयार करने वाले इस समूह में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टर कोविड-19 संबंधी राष्ट्रीय कार्यबल के सदस्य भी शामिल हैं।

नई दिल्ली॥ महामारी की संभावित तीसरी लहर को देखते हुए सरकार वैक्सीनेशन पर जोर दे रही है। इस बीच एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि जो लोग कोविड संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं, उन्हें वैक्सीनेशन की कोई जरूरत नहीं है।

corona vaccination

पब्लिक हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स के एक ग्रुप का कहना है कि बड़ी संख्‍या में और अधूरे रूप से टीकाकरण कोरोना वायरस के नए वैरियंट्स के जन्म का कारण बन सकता है। इसलिए पहले संवेदनशील और जोखिम श्रणी वाले लोगों को टीका लगाया जाना चाहिए।

वर्तमान गाइडलाइंस के तहत महामारी संक्रमण के तीन महीने बाद टीका लगवाने की सलाह दी गई है। वैक्सीनेशन पर रिपोर्ट तैयार करने वाले इस समूह में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डॉक्टर कोविड-19 संबंधी राष्ट्रीय कार्यबल के सदस्य भी शामिल हैं।

संगठन ने सलाह दी है कि अभी हमें बड़े पैमाने पर लोगों के टीकाकरण की जगह केवल उन लोगों का वैक्‍सीन दी जानी चाहिए, जो संवेदनशील और जोखिम श्रेणी में शामिल हैं।

विशेषज्ञों की रिपोर्ट प्रधानमंत्री को सौंपी गई

इंडियन पब्लिक हेल्थ एसोसिएशन, इंडियन एसोसिएशन ऑफ एपिडमोलॉजिस्ट्स और इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रीवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन के विशेषज्ञों द्वारा तैयार की गई इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में आपदा की मौजूदा स्थिति को देखते हुए ये उचित होगा कि सभी आयु वर्ग के लोगों की जगह महामारी संबंधी आंकड़ों को ध्‍यान में रखकर टीकाकरण के लिए रणनीति बनानी चाहिए। ये रिपोर्ट पीएम मोदी को सौंपी गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *