अभीः अभीः देश में बिगड़े हालातों के बीच पीएम मोदी ने जारी कर दिया बड़ा आदेश, जानें आप भी

प्रधानमंत्री ने देशभर में ऑक्सीजन सप्लाई की समीक्षा की

पीएम मोदी ने शुक्रवार को देशभर (All over india) में मेडिकल ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए एक व्यापक समीक्षा बैठक की। पीएम (Pm modi) ने इस दौरान मंत्रालयों और प्रदेश सरकारों के बीच बेहतर समन्वय के महत्व बल दिया। उन्होंने ऑक्सीजन की उपलब्धता, संभावित इस्तेमाल, आवाजाही तथा आयात संबंधित विषयों पर अफसरों से बातचीत की और उन्हें उचित निर्देश दिए।

pm modi

पीएम (Pm modi) ने समीक्षा के दौरान कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित 12 प्रदेशों में ऑक्सीजन की उपलब्धता और अगले 15 दिन में होने वाले प्रयोग की समीक्षा की। इस दौरान पीएम को इन राज्यों में जिला स्तर तक की स्थिति से अवगत कराया गया। पीएम को बताया गया कि आने वाले 15 दिनों में हर 5 दिन में इन राज्यों में ऑक्सीजन की कितनी जरूरत होगी।

उन्हें बताया गया कि इन आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए इन 12 राज्यों को 20, 25 और 30 अप्रैल के लिए क्रमशः 4,880, 5,619 और 6,593 मेट्रिक टन ऑक्सीजन का आवंटन किया गया है। पीएम को देश में ऑक्सीजन के उत्पादन की स्थिति से अवगत कराया गया जिसमें पीएम ने सुझाव दिया कि हर इकाई को अपनी क्षमता के अनुसार इसमें इजाफा करना चाहिए। इस बात पर भी चर्चा हुई इस्पात संयंत्रों में अधिशेष ऑक्सीजन को मेडिकल के लिए उपयोग में लाया जाए।

पीएम ने अफसरों को ऑक्सीजन ले जाने में वाले टैंकरों की स्वतंत्र आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए कहा। इस संबंध में सरकार ने देशभर में ऑक्सीजन टैंकरों की राज्यों के बीच आवाजाही को परमिट रजिस्ट्रेशन से मुक्त कर दिया है।

इन लोगों को दी गई 24 घंटे काम करने की अनुमति

साथ ही ट्रांसपोर्टरों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि ऑक्सीजन की सप्लाई निर्बाध 24 घंटे जारी रहे और इसके लिए ड्राइवरों की शिफ्ट सुनिश्चित हो। सिलेंडर भरने वाली इकाइयों को भी निर्धारित सुरक्षा मानकों के साथ 24 घंटे काम करने की अनुमति दी गई है।

सरकार ने मेडिकल ऑक्सीजन के लिए औद्योगिक सिलेंडर के उपयोग को सभी स्वच्छता सुनिश्चित कर उपयोग में लाने अनुमति दी है। साथ ही टैंकरों की संभावित कमी को पूरा करने के लिए नाइट्रोजन और टैंकरों को ऑक्सीजन में बदलकर इजाजत दी जाएगी। साथ ही पीएम को मेडिकल ऑक्सीजन के आयात के बारे में भी किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी गई।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *