आदिवासी महिला ने तहसीलदार पर लगाये गंभीर आरोप, FIR दर्ज न होने पर, शुरू किया आमरण अनशन

जिले के बगीचा तहसील से एक बड़ी खबर सामने निकलकर आई है। बगीचा से लगे रायकेरा ग्राम पंचायत की रहने वाली एक आदिवासी महिला ने बगीचा तहसीलदार तुलसीदास मरकाम के खिलाफ गंभीर आरोप लगाया है

जशपुर, 12 अक्टूबर यूपी किरण। जिले के बगीचा तहसील से एक बड़ी खबर सामने निकलकर आई है। बगीचा से लगे रायकेरा ग्राम पंचायत की रहने वाली एक आदिवासी महिला ने बगीचा तहसीलदार तुलसीदास मरकाम के खिलाफ गंभीर आरोप लगाया है। महिला का आरोप है कि बगीचा तहसील में पदस्थ राघव नाम के बाबू के मोबाईल से तहसीलदार तुलसीदास मरकाम के द्वारा उसके मोबाईल पर अश्लील और अशोभनीय बाते की गई है।
वहीं इस घटना के बाद महिला ने बगीचा तहसीलदार के खिलाफ 2 अक्टूबर  को एफआईआर दर्ज कराने के लिये बगीचा थाना प्रभारी भास्कर शर्मा को लिखित आवेदन दी थी लेकिन 10 दिन बीत जाने के बाद भी तहसीलदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने से क्षुब्ध महिला आज सुबह 10 बजे से बगीचा तहसील के सामने अन्न-जल त्यागकर आमरण अनशन पर बैठ गई है।
इस संबंध में बगीचा तसहीलदार से बात करने पर उन्होंने इस पूरे मामले से पल्ला झाड़ते हुए कहा कि कुछ दलालो के द्वारा उन्हें  सुनियोजित तरीके से फंसाया जा रहा है। इस गंभीर मामले मे अनशन पर बैठी अनिमा मिंज ने बताया कि पूर्व रायकेरा सरपंच ज्वाकिम लकड़ा के द्वारा अपने सरपंची काल में रायकेरा पंचायत में काफी भ्रष्टाचार कर शासकीय राशि का खुलकर बंदरबाट किया गया है। जिसको लेकर उसके द्वारा ज्वाकिम लकड़ा के खिलाफ कलेक्टर को शिकायत भी की गई है। महिला ने बताया कि तहसीलदार मरकाम चाहते हैं कि ज्वाकिम लकड़ा के खिलाफ की गई शिकायत को वह वापस ले । ज्वाकिम लकड़ा और तहसीलदार मरकाम  अच्छे दोस्त हैं।
अनशन पर बैठी महिला ने बताया कि पिछले कई दिनो से तहसीलदार श्री मरकाम मिलने के लिये घर पर खबर भिजवा रहे थे। 1 अक्टूबर 2020 को महिला तहसीलदार से मिलने के लिये अपने पति के साथ तहसील कार्यालय गई थी, काफी इंतजार करने के बाद जब तहसीलदार श्री मरकाम तहसील कार्यालय नहीं पहुंचे तब महिला अपने पति के साथ अपने घर लौट गई।
बता दें श्रीमती मिंज ने बताया कि 1 अक्टूबर को ही राघव बाबु अपने मोबाईल से काल कर बोले की मरकाम साहब आपसे बात करना चाहते हैं। इस कारण वह 2 अक्टूबर को बगीचा थाना पहुंचकर बगीचा तहसीलदार तुलसीदास मरकाम के खिलाफ एफ.आई.आर कराने पहुंची थी, लेकिन अब तक तहसीलदार के खिलाफ कोई कार्रवाई नही हुई। महिला ने बताया कि जब तक तहसीलदार के खिलाफ एफ.आई.आर व निलंबन की कार्रवाई नहीं होती है वह आमरण अनशन पर बैठी रहेगी।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *