श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंद्रा राजपक्षे ने दिया इस्तीफा, आर्थिक संकट के बाद से बन रहा था दबाव

श्रीलंका में आजादी के बाद सबसे बड़े आर्थिक संकट के बीच प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनके इस्तीफे का पत्र स्वास्थ्य मंत्री प्रोफेसर चन्ना जयसुमना ने राष्ट्रपति को सौंपा है. उन्होंने लंबे संघर्ष के बाद इस्तीफा दे दिया है, इसके बावजूद कई बार उनके भाई और राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने उन्हें पद छोड़ने के लिए कहा है। राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने उनसे श्रीलंका की आर्थिक स्थिति पर एक बैठक में पद छोड़ने के लिए कहा था। उन्होंने कहा था कि देश में जारी राजनीतिक संकट के बीच उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए।

Mahinda Rajapaksa
गौरतलब है कि श्रीलंका की आर्थिक स्थिति इतनी खराब हो चुकी है कि लोग भुखमरी के कगार पर हैं. खाने-पीने की चीजों के दाम आसमान छू रहे हैं। लोग सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं। सरकार के खिलाफ मजदूर और कारोबारी संगठन हड़ताल पर चले गए हैं। पिछले हफ्ते छात्रों ने सरकार के खिलाफ श्रीलंकाई संसद में घुसने की कोशिश की थी।

उन्हें रोकने के लिए पुलिस को आंसू गैस और वाटर कैनन का इस्तेमाल करना पड़ा। लोगों में सरकार के खिलाफ जबरदस्त गुस्सा और आक्रोश है। लोग प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति दोनों के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं. वहीं दूसरी ओर श्रीलंका सरकार के सभी मंत्रियों ने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया है। सरकार ने विपक्षी नेताओं से अपील की थी कि वे मंत्री बनकर सरकार चलाने में मदद करें, लेकिन विपक्ष ने भी हाथ खड़े कर दिए.