जिस बेटी के जन्म पर भड़की दादी, वही बेटी आईएएस बनकर परिवार का मान बढ़ाया

नई दिल्ली: कहा जाता है कि मन की मेहनत कभी बेकार नहीं जाती और निशा ने इस कहानी को सच कर दिखाया. हिंदी में एक कहावत है कि मन से की गई मेहनत कभी बेकार नहीं जाती और कोशिश करने वालों ने कभी हार नहीं मानी, इस कहानी को झुंझुनू की बेटी ने सच साबित किया है।

झुंझुनू के चरवास गांव की बेटी निशा चाहर ने IAS जैसी परीक्षा पास कर अपने परिवार के साथ-साथ पूरे झुंझुनू का नाम रौशन किया है. उन्होंने यूपीएससी में 117वां रैंक हासिल किया है। निशा के आईएएस बनने पर निशा की दादी सबसे ज्यादा खुश होती हैं। उन्होंने बताया कि जब निशा का जन्म हुआ तो उन्हें बहुत दुख हुआ कि घर में एक बेटी का जन्म हुआ, लेकिन आज उनकी पोती ने बेटे से ज्यादा घर का नाम रोशन किया है. बेटी होने पर निशा को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था। हर जगह उन्हें बेटे और बेटी में अंतर दिखाया गया, लेकिन आज उन्होंने ऐसा कर दिखाया है कि आज पूरे जिले को उन पर गर्व है।

उनकी दादी नचनी देवी ने कहा कि जब निशा का जन्म हुआ तो पूरे घर में उदासी छा गई, सभी को लगा कि अगर उनके स्थान पर बेटा पैदा होता तो वह घर का नाम रोशन करती। उनकी दादी ने बताया कि जब निशा यूपीएससी में पास हुई तो उन्होंने जमकर डांस किया और दिन में एक बार भगवान को दीया जलाने वाली दादी ने उस दिन भगवान को दो बार दीया जलाया.

यूपीएससी परीक्षा के संबंध में निशा उम्मीदवार को सलाह देती हैं कि इस परीक्षा की तैयारी एक अच्छी रणनीति के साथ करें और साथ ही साथ कड़ी मेहनत करें, तभी आप इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकते हैं।