चेहरे को बनाना है चमकदार और आकर्षक तो मुल्तानी मिट्टी का ऐसे करें इस्तेमाल!

मिट्टी का ये नुस्खा धूप की कालिमा, चकत्ते और सूजन को शांत करने में मदद कर सकता है

मुल्तानी मिट्टी त्वचा से अतिरिक्त तेल, गंदगी और पसीने को सोखने में सक्षम है, इसलिए यह अंदर से बाहर तक छिद्रों पर पूरी तरह से सफाई का काम कर सकती है। ये मुंहासों, फुंसियों और ब्लैकहेड्स को रोकने में मदद करता है, क्योंकि उस स्थिति में छिद्र स्वस्थ होते हैं।

multani mitii

चूंकि ये त्वचा को एक्सफोलिएट करता है, यह इस प्रक्रिया में रंजकता, काले धब्बे और मुंहासों के निशान को भी मिटा सकता है। एक और महत्वपूर्ण लाभ? इसका शीतलन प्रभाव। यह मैग्नीशियम क्लोराइड में समृद्ध है, और धूप की कालिमा, चकत्ते और सूजन को शांत करने में मदद कर सकता है, यहां तक ​​​​कि खरोंच, बग काटने या उठाए हुए दाना के साथ भी मदद कर सकता है।

इन 3 तरीके जिनसे आप अपनी त्वचा पर मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल कर सकते हैं

  • अगर स्किन में फाइन लाइन्स और डलनेस की समस्या है, तो मुल्तानी मिट्टी को शहद के साथ मिलाएं और इसे मास्क की तरह लगाएं। शहद मॉइस्चराइजिंग कर रहा है, जिससे बाद में त्वचा कोमल और उछालभरी हो जाती है। जब मुल्तानी मिट्टी को नम पेस्ट के रूप में त्वचा पर लगाया जाता है, तो ये सतह पर मौजूद सभी अतिरिक्त चिकनाई को सोख लेती है। जैसे ही ये सूखता है, पेस्ट कस जाता है, जो रक्त के प्रवाह को उत्तेजित करता है क्योंकि ये ठंडा होता है और त्वचा की सतह के खिलाफ गंदे तत्वों को बाहर करता है।
  • मुल्तानी मिट्टी को नीम के पाउडर में मिलाकर पानी के साथ लगाएं। ये मिश्रण लाल, सूजन वाले पिंपल्स को सुखा देगा और नीम अपने एंटीसेप्टिक और जीवाणुरोधी गुणों के साथ सक्रिय रूप से ब्रेकआउट का इलाज करने का काम करता है।
  • मुल्तानी मिट्टी को टमाटर के रस के साथ मिलाकर एक मैटिफाइंग मास्क तैयार करें जो बड़े, खुले रोमछिद्रों को छोटा करते हुए अतिरिक्त तेल सोख लेगा, क्योंकि टमाटर एक प्राकृतिक एस्ट्रिंजेंट है जो त्वचा को और अधिक सुखाए बिना टोनर की तरह काम करता है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *