कोरोना वायरस के बाद अब आई एक और आफत, चेहरे और शरीर पर निकल रहे हैं बड़े-बड़े दाने

20 साल बाद सामने आया मंकीपॉक्स का दुर्लभ मामला, जानें कितनी खतरनाक है

लगभग बीस साल में पहली बार यूएसए के टेक्सास में मनुष्यों में ‘मंकीपॉक्स’ (monkeypox) बीमारी का दुर्लभ केस देखा गया है। देश के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) ने शुक्रवार को इस बात की सूचना दी है। जिस मरीज में यह बीमारी पाई गई है वह कुछ दिन पहले नाइजीरिया से लौटा है। उसे फिलहाल डलास के एक अस्पताल में आइसोलेशन में रखा गया है।

Monkeypox in US

CDC अन्य लोगों का पता लगाने के लिए एयरलाइंस और स्थानीय स्वास्थ्य एजेंसियों से संपर्क कर रहा है जो मरीज के संपर्क में आए होंगे। सरकारी अफसरों का कहना है कि यह इकलौता मामला है और इससे किसी तरह की चिंता या डर की जरूरत नहीं है। वर्ष 2003 में इस वायरस के प्रकोप से 47 लोग प्रभावित हुए थे।

मंकीपॉक्स इंसानों के बीच फैल सकता है किंतु फिलहाल इसकी संभावना कम है क्योंकि कोरोना वायरस के कारण मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है। मंकीपॉक्स एक दुर्लभ बीमारी है जो आमतौर पर मध्य और पश्चिम अफ्रीका में पाई जाती है। यह वायरस जानवरों में रहता है किंतु कभी-कभी इंसानों में भी आ जाता है।

ये फ्लू की तरह काम करता है और फिर चेहरे और शरीर पर दाने निकल आते हैं। यह संक्रमण दो से चार सप्ताह तक रहता है। यह चेचक के वायरस के समान है किंतु कम गंभीर बीमारी का कारण बनता है। यह श्वसन की बूंदों के माध्यम से मनुष्यों के बीच फैलता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *