आर्मेनिया और अज़रबैजान को शत्रुता का त्याग कर, बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए: भारत

भारत ने आर्मेनिया और अज़रबैजान के बीच हाल ही में हुई सैन्य झड़प पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि दोनों पक्ष संयम बरतते हुए सीमा पर शांति बनाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाएं।

नई दिल्ली, 02 अक्टूबर यूपी किरण। भारत ने आर्मेनिया और अज़रबैजान के बीच हाल ही में हुई सैन्य झड़प पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि दोनों पक्ष संयम बरतते हुए सीमा पर शांति बनाने के लिए सभी जरूरी कदम उठाएं।
   
बता दें कि विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने सप्ताहिक प्रेस वार्ता में कहा कि 27 सितंबर को आर्मेनिया और अज़रबैजान की सीमा पर नागोर्नो काराबाख क्षेत्र में शत्रुता के माहौल से दोनों और हताहत होने के विचलित करने वाले समाचार देखा है। उन्होंने कहा कि भारत स्थिति को लेकर चिंतित है जिससे क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा को खतरा है। हम दोनों पक्षों से तुरंत शत्रुता त्यागने की अपील करते हैं। दोनों पक्षों को संयम बरतते हुए सीमा क्षेत्र में शांति बनाने के लिए सभी संभव उपाय करने चाहिए। भारत मानता है कि किसी विवाद का अंतिम समाधान राजनयिक स्तर पर की गई वार्ता से ही निकलता है। उन्होंने कहा कि भारत ओएससीई मिंस्क समूह की ओर से शांतिपूर्ण समाधान तलाशने के लिए किए जा रहे प्रयासों का समर्थन करता है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *