बुरी खबर- भारत के 18 पावर प्लांट में कोयला हुआ खत्म, जानें क्या है वर्तमान स्थिति

ऊर्जा मंत्री ने कहा था कि जल्द ही इस विपित्त को दूर कर लिया जाएगा

हिंदुस्तान में कोयले की किल्लत का संकट जारी है। रिकॉर्ड तोड़ प्रोडक्शन के बाद भी ऐसी स्थिति बन गई हैं। हिंदुस्तान में 135 पावर प्लांट ऐसे हैं, जहां कोयले से बिजली बनाई जाती है और गर्वमेंट के ही रिपोर्ट बताते हैं कि इनमें से 18 प्लांट में कोयला पूरा खत्म हो चुका है, उद्देश्य यहां कोयले का स्टॉक है ही नहीं। सिर्फ 20 प्लांट ऐसे हैं जहां 7 दिन या उससे ज्यादा का स्टॉक शेष है।

coal crisis

आपको बता दें कि बीते रविवार को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने प्रेस वार्ता में कोयले का संकट होने की बात खारिज कर दी थी। हालांकि, उन्होंने ये बात जरूर मानी थी कि पहले जहां प्लांट में 17-17 दिन का भंडार हुआ करता था, वहां अब पांच छः दिन का ही भंडार है।

ऊर्जा मंत्री ने कहा था कि जल्द ही इस विपित्त को दूर कर लिया जाएगा। वहीं, बिजली मंत्रालय की आंकड़ों की मानें तो 12 अक्टूबर तक इंडिया में 18 प्लांट ऐसे थे जहां एक भी दिन का भंडार नहीं था। वहीं, 26 प्लांट में एक दिन का ही भंडार शेष था। जबकि, 5 प्लांट में 7 तथा 15 में ही 7 दिन से ज्यादा का भंडार था।

वही ये स्थिति तब हो रही है जब इस वर्ष कोल इंडिया लिमिटेड ने कोयले का रिकॉर्ड तोड़ निर्माण किया है। खबर के मुताबिक इस वर्ष अगस्त से सितंबर तक कोल इंडिया ने 249.8 मिलियन टन कोयले का निर्माण किया है, जो बीते साल की समान अवधि में हुए निर्माण से 13.8 मिलियन टन अधिक है। किंतु फिर भी ये खतरा क्यों? तो इस बारे में सरकार का कहना है कि कोविड-19 की सेकेंड वेव के बाद अर्थव्यवस्था में सुधार आया है जिससे बिजली की डिमांड तेजी से बढ़ी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *