अगर आप भी ऐसे खाद्य पदार्थो के आदी हैं तो खाना बंद कर दीजिए बन सकती हैं पायरिया का कारण

पायरिया एक सामान्य दातों की बीमारी है। आकड़ो के मुताबिक, दुनिया में कम से कम आधे से ज्यादा 30 साल से ज्यादा उम्र के एडल्ट्स किसी न किसी मसूड़ों की समस्या से ग्रस्त हैं।पायरिया में बहुत संयम बरतना पड़ता है। आपकी छोटी से छोटी आदत ही पायरिया का कारण के लिए जिम्मेदार हो सकती है।

पायरिया का कारण

Belly Fat को कम करने के लिए पीएं ये नेचुरल ड्रिंक, जल्द नज़र आएगा फर्क

इस आर्टिकल में हम निम्न बातों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

  • पायरिया क्या है (What is pyria)
  • पायरिया का कारण (Causes of pyria)
  • पायरिया के लक्षण (Symptoms of pyria)
  • पायरिया से बचने के उपाय (Prevention of pyria)
  • पायरिया में कौन कौन से खाद्य पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए (Risk factors of pyria)

पायरिया क्या है

पायरिया एक प्रकार की दांत की बीमारी है जब मसूड़ों और दातों में बैक्टीरिया अपना घर बना लेते हैं, जिससे दांत पीले हो जाते हैं, इस स्थिति को प्लेक (Plaque) कहते हैं। एक्सपर्ट्स बैक्टीरिया को ही पायरिया का कारण मानते हैं हालांकि इसके अलावा ऐसे बहुत से चीज़े हैं जो पायरिया का कारण बन सकती है।

चलिए जानते है कि पायरिया रोग कैसे होता है?

प्लेक क्या है

प्लेक दांतों पर बैक्टीरिया और खाद्य पदार्थ के बचे हुए अंश के कारण होता है।वास्तव में प्लेक ही मुख्यत: पायरिया का कारण है। इस स्थिति के लिए हम केवल बैक्टीरिया को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते हैं,

क्योंकि बैक्टीरिया हमेशा मुंह में मौजूद होते हैं, वे केवल तभी हानिकारक होते हैं जब वे कुछ विशिष्ट परिस्थितियों में अपनी संख्या में असीमित रूप से वृद्धि कर लेते हैं।ऐसा तब हो सकता है जब आप ब्रश या फ्लॉस नहीं करते हैं, या नियमित रूप से दांतों की सफाई करवाते हैं।

पायरिया के अन्य नाम

पायरिया को “Gingivitisभी कहते हैं, अर्थात मसूड़ों में सूजन होना।

पायरिया का कारण

प्राय: सभी के मुंह में बैक्टीरिया होते हैं।अधिकांश बैक्टीरिया सामान्य, प्राकृतिक और सुरक्षित होते हैं। लेकिन कुछ प्रकार के बैक्टीरिया दांतों पर प्लाक बना सकते हैं।यदि आप अपने दांतों को नियमित रूप से और अच्छी तरह से साफ नहीं करते हैं, तो यही बैक्टीरिया और प्लाक पायरिया का कारण बन सकते हैं

प्लेक कभी कभी बहुत कठोर हो जाता है और टार्टर (Tartar) बन जाता है।टार्टर बहुत ही कठिनता से हटते हैं।यही टार्टर बैक्टीरिया की संख्या को और बढ़ा देता है।

चीज़े और परिस्थितियां जो पायरिया का कारण बन सकती है

निम्न परिस्थितियां पायरिया का कारण बन सकती हैं।

  • गर्भावस्था
  • दांतों की अच्छी देखभाल न करना या ऐसे टेढ़े-मेढ़े दांत हों जिन्हें साफ करना मुश्किल हो।
  • मधुमेह (Diabetes)
  • मसूड़ों की बीमारी का पारिवारिक इतिहास
  • धूम्रपान (Smoking)
  • तंबाकू

दवाएं जो पायरिया होने के लिए जिम्मेदार होती है

कुछ दवाएं होती हैं, जैसे प्रिस्क्रिप्शन (Prescription) और ओवर द काउंटर दवाएं (Over-the-counter drugs) मुंह में लार के उत्पादन और प्रवाह को प्रभावित करती हैं, चूंकि लार हमारे मुंह से बैक्टीरिया को हटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अतः लार के कम उत्पादन से बैक्टीरिया का सफाया न हो पाएगा और उनकी संख्या में असीमित रूप से वृद्धि होगी, जो पायरिया का कारण है।

अतः अगर आपको पायरिया है तो निम्न दवाओं का सेवन न करे और इनके विकल्प वाली दवाओं का प्रयोग करे।

  • मिर्गी के इलाज के लिए दवाएं।
  • कुछ कैंसर उपचार।
  • रक्तचाप के लिए कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (Calcium channel blockers)
  • गर्भनिरोधक गोली (Oral contraceptive)

पायरिया के लक्षण क्या हैं

पायरिया शुरुआत में अक्सर किसी भी लक्षण का कारण नहीं बनती है, इसलिए कुछ लोगो को पायरिया हो जाता है और वो जान तक नहीं पाते।

जब पायरिया दातों में बढ़ जाता है तब निम्न प्रकार के लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

  • सांसों की दुर्गंध जो ब्रश करने के बाद भी दूर नहीं होती है।
  • मसूड़े से खून बहना, खासकर जब आप अपने दाँत ब्रश करते हैं।
  • मसूड़ों का लाल होना
  • मसूड़ों में सूजन होना
  • गर्म या ठंडे खाद्य पदार्थों के प्रति संवेदनशीलता।
  • भोजन खाते समय दर्द होना
  • दातों और मसूड़ों के बीच में मवाद (Pus) होना

पायरिया से बचने के उपाय

आप निम्न उपाय करके पायरिया से बच सकते हैं या अगर आपको पायरिया हो भी गया तो निम्न उपायों से आप किसी भी गंभीर स्थिति से बच सकते हैं।

  • दिन में दो बार अच्छी तरह से ब्रश करें: एक बार उठने के बाद और एक बार सोने से पहले।
  • डायबिटीज हो तो कंट्रोल करें।
  • धूम्रपान न करें।
  • अन्य तंबाकू उत्पादों का उपयोग न करें।
  • दांतों के बीच के बैक्टीरिया को दूर करने के लिए रोजाना फ्लॉस(Floss) करें।
  • शराब पीना कम करे।
  • चेकअप के लिए वर्ष में कम से कम एक बार दंत चिकित्सक से मिलें, और अधिक बार यदि आपको कोई लक्षण दिखाई दें।
  • चीनी वाले भोजन और पेय पदार्थों का सेवन न करें या बिल्कुल कम करे।

पायरिया के होने का खतरा किन लोगों में ज्यादा है

अगर आप भी निम्न प्रकार के लोगों की श्रेणी में आते हैं तो आप में भी पायरिया होने का खतरा ज्यादा है।

  • अधिक धूम्रपान करना
  • दिन में कम से कम 2 बार तंबाकू खाना
  • कुछ दवाओं जैसे, ओवर द काउंटर दवाएं (Over-the-counter drugs), मिर्गी (Epilepsy) की दवाएं, स्टीरॉयड (Steroid) का अत्यधिक सेवन, कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स का उपयोग, कीमोथेरेपी (Chemotherapy) का सेवन करना।
  • टेढ़े मेढे दांत
  • गर्भावस्था (Pregnancy)
  • परिवार में किसी को पायरिया होना
  • किसी रोग से प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाना

पायरिया में कौन कौन से खाद्य पदार्थ का सेवन नहीं करना चाहिए

पायरिया में ऐसे खाद्य पदार्थो का सेवन नहीं करना चाहिए जो दातों में जाके जम जाते हैं और उनको दातों से हटाना मुश्किल होता है।

चलिए देखते हैं कि ऐसे कौन कौन से खाद्य पदार्थ हैं जो पायरिया का कारण बन सकते हैं।

  • सफेद ब्रेड (White bread)
  • खट्टे फल (Citrus fruits)
  • स्पोर्ट्स ड्रिंक्स (Sports drinks)
  • सोडा
  • टाफियां (candies)
  • च्यूइंग गम (Chewing gum)
  • सॉफ्ट ड्रिंक्स (Soft drinks)

भारत में कोरोना के आ गए इतने नए मामले, बढ़ने लगा है खौफ