सावधान: Gmail और Outlook यूजर्स इस लिंक पर न करें क्लिक, नहीं तो हो जायेगा भारी नुकसान

Gmail और Outlook जैसे फेमस ईमेल सर्विस इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को इस समय बेहद सावधान रहने की आवश्यकता है। इन दोनों सर्विस का इस्तेमाल...

नई दिल्ली। Gmail और Outlook जैसे फेमस ईमेल सर्विस इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को इस समय बेहद सावधान रहने की आवश्यकता है। इन दोनों सर्विस का इस्तेमाल करने वाले यूजर्स के लिए चेतावनी जारी की गई। कहा जा रहा है कि जालसाज ईमेल के जरिए यूजर्स को खतरनाक लिंक्स भेज रहे हैं जो उनको भरे नुकसान पंहुचा सकते हैं। अगर आप ऐसे ईमेल के झांसे में आ जाते हैं तो आपको ना सिर्फ अपनी पर्सनल जानकारी बल्कि पैसों से भी हाथ धोना पड़ सकता है। ख़ास बात ये हैं कि ऐसे खतरनाक ईमेल आपको दिखने में एक ऑफिशियल मेल जैसे लगते हैं।

FAKE EMAIL

लालच देकर यूजर्स को बना रहे शिकार

रिपोर्ट में बताया गया है कि Gmail और Outlook यूजर्स को जालसाज बड़ा लालच देकर शिकार बना रहे हैं। हैकर्स ईमेल में गिफ्ट कार्ड होने का दावा करते हैं और कहते हैं कि गिफ्ट कार्ड क्लेम करने के लिए यूजर्स को एक सर्वे में हिस्सा लेना होगा। जैसे ही यूजर्स लिंक पर क्लिक करते हैं तो उन्हें एक वेबसाइट पर ले जाया जाता है। दुर्भाग्य से, सर्वे में हिस्सा लेने के बाद भी आपको किसी तरह का गिफ्ट कार्ड नहीं मिलता। हाँ लिंक पर क्लिक करने या सर्वे में हिस्सा लेने से आपकी पर्सनल जानकारी चोरी होने का खतरा बढ़ जाता है ।

कैसे पहचानें फर्जी मेल?

अगर आपकी आईडी पर भी कोई गिफ्ट कार्ड या इनाम जीतने का मेल आता है तो आपको सावधान रहना चाहिए और उन्हें बिना जांचे क्लिक नहीं कर देना चाहिए। ये ईमेल असली है या नकली, यह पहचानने के हम आपको कुछ टिप्स बता रहे हैं। इस तरह के मेल अक्सर आपको किसी लिंक पर क्लिक करने के लिए कहते हैं। कई बार मेल में बड़ी धनराशि का जिक्र किया जाता है, जबकि आपने ऐसे किसी भी ड्रॉ में हिस्सा नहीं लिया होता।

बचने के लिए तो अपनाएं यह तरीका

1- यूजर्स को ध्यान रखना होगा कि वह किसी अनजान लिंक पर क्लिक न करें।

2- अनजान मेल में दी गई कोई भी अटैचमेंट ना खोलें।

3- अज्ञात वेबसाइटों पर उनकी व्यक्तिगत जानकारी दर्ज न करें।

4- ईमेल और पासवर्ड दर्ज न करें, खासकर अगर यह किसी सर्वे का हिस्सा है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *