मुख्यमंत्री योगी द्वारा प्राचीन कालीबाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यों का लोकार्पण

अपनी धार्मिक भावनाओं के लिए विख्यात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज गोरखनाथ मंदिर में विधि विधान से अष्टमी पूजन का अनुष्ठान सम्पन्न किया !

गोरखपुर : अपनी धार्मिक भावनाओं के लिए विख्यात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज गोरखनाथ मंदिर में विधि विधान से अष्टमी पूजन का अनुष्ठान सम्पन्न किया ! दिनभर अनेक अनुष्ठानों में व्यस्त रहने के बाद उन्होंने आज शाम को नगर के प्राचीन और ऐतिहासिक कालीबाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यों का भी लोकार्पण किया।

इस मंदिर में पर्यटन विभाग की तरफ से कुल 76 लाख रुपये की लागत से विभिन्न विकास कार्य कराए गए हैं। इस अवसर पर श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि धार्मिक महत्त्व का यह मंदिर यह मंदिर सेवा कार्य से भी जुड़ा है। जीर्णोद्धार के बाद मंदिर का स्वरूप और भी दर्शनीय हो गया है तथा उपयोगिता बढ़ गयी है ।

कालीबाड़ी मंदिर के जीर्णोद्धार के लिए मुख्यमंत्री ने यहां के महंत रविंद्रदास की सराहना करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से अब यह मंदिर भव्य रूप में है। यहां माँ महाकाली के साथ ही अन्य सभी देवी-देवताओं की मूर्तियों की भी स्थापना कराई गई है। यहां हुए विकास कार्यों से श्रद्धालुओं को काफी सुविधा मिलेगी। कालीबाड़ी पहुंचने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मां जगतजननी की आराधना की और आरती उतारी।

उन्होंने गोमाता की विधि विधान से पूजा करने के साथ ही गोसेवा भी की। उन्होंने पूरे मंदिर परिसर का निरीक्षण भी किया। इस अवसर पर सांसद रविकिशन शुक्ल, महापौर सीताराम जायसवाल, गोरखपुर ग्रामीण के विधायक बिपिन सिंह, कालीबाड़ी के महंत रविंद्रदास, नगर निगम के उपसभापति ऋषि मोहन वर्मा आदि उपस्थित रहे।

मंदिर में जो नया काम हुआ है उसमे नए यात्री निवा व धर्मशाला का निर्माण ,उसका विद्युतीकरण , मंदिर की मरम्मत, विद्युतीकरण, एक्वागार्ड सहित वाटर कूलर , सीढ़ियों के निर्माण, रिनोवेशन कार्य, मंदिर के भूतल की सीढ़ियों पर ग्रेनाइट व मार्बल फ्लोरिंग, रंगाई पुताई, मुख्य मंदिर के वाह्य दीवार पर नक्काशी व लाल पत्थर की क्लैडिंग का कार्य, हवन कुंड, प्रवेश द्वार, स्टेनलेस स्टील गेट का निर्माण, संत निवास कक्ष की मरम्मत, ड्रेनेज सिस्टम, आदि शामिल हैं !

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *