स्कूली बच्चों को मानसिक गुलाम बनाएगा चीन, बताया जाएगा-जो जिनपिंग कहें वही करो

चीन की सत्ता पर हमेशा के लिए काबिज हो चुके शी जिनपिंग अब आने वाली पीढ़ियों के दिलो-दिमाग पर भी अपनी अमिट छाप छोड़ने के लिए एक विशेष योजना तैयार की है।

बीजिंग। चीन की सत्ता पर हमेशा के लिए काबिज हो चुके शी जिनपिंग अब आने वाली पीढ़ियों के दिलो-दिमाग पर भी अपनी अमिट छाप छोड़ने के लिए एक विशेष योजना तैयार की है। इस योजना के तहत छोटे बच्चों को शी जिनपिंग के जीवन के बारे में और उनके भाषणों आवश्यक रूप से जानकारी दी जाए। कम्युनिस्ट पार्टी की 100वीं वर्षगांठ से पहले चीन में इसको लेकर आदेश भी जारी कर दिया गया है।

China President Xi Jinping

गाइडलाइंस जारी की

पार्टी की सेंट्रल कमिटी ने बुधवार को इसको लेकर गाइडलाइंस जारी की है, जिसके तहत छोटे बच्चों में वैचारिक शिक्षा पर जोर देने को कहा गया है। गाइडलाइंस में कहा गया है प्राइमरी स्कूल और सेकेंड्री स्कूल के पहले दो साल में सभी विद्यार्थियों की सप्ताह में एक क्लास शी के विचारों पर हो। बच्चों को शी का आदेश पालन करने की सीख दी जाएगी और बताया जाएगा कि केवल वही करें जो शी ने हमें बताया है।

चीन में कूटनीतिज्ञों से लेकर अधिकारियों तक और लेखकों सभी को अपनी नीतियों में “शी थॉट्स” के व्यापक, अक्सर फर्जी सिद्धांतों को शामिल करने का दबाव है। शी खुद को चीन का सर्वोच्च नेता स्थापित करने में जुटे हुए हैं और देश पर अपने नियंत्रण को और मजबूत करने के लिए हर कोशिश में जुटे हैं।

डॉक्युमेंट में यह भी कहा गया है कि बच्चों को यह पढ़ाया जाए कि आज का सुखी जीवन पार्टी के सही नेतृत्व और समाजवाद की वजह से है। चीन सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में सोमवार को गाइडलाइंस की जानकारी देते हुए लिखा गया है, ”बच्चों में राजनीतिक ज्ञान और मूल्यों को मजबूत करने का रणनीतिक महत्व है और इससे सुनिश्चित होगा की लाल जीन एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाए।”

अखबार चाइना डेली ने भी इस कदम की तारीफ की

एक अन्य सरकारी अखबार चाइना डेली ने भी इस कदम की तारीफ करते हुए लिखा है कि बच्चे राष्ट्र और कम्युनिस्ट पार्टी के भविष्य हैं और इसलिए उनका सही विकास रणनीतिक महत्व रखता है। गौरतलब है कि चीन में कम्युनिस्ट पार्टी का शासन है और इसने जीवन और समाज के हर क्षेत्र को पूरी तरह अपने नियंत्रण में ले लिया है। चीन में हर नागरिक को सिर्फ वही सोचना, बोलना और करना है जिसकी इजाजत उन्हें कम्युनिस्ट पार्टी से मिलती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *