Lucknow Public School की मान्यता खतरे में, शिक्षा विभाग ने जारी किया नोटिस

लखनऊ। राजधानी में विराट खंड गोमती नगर स्थित लखनऊ पब्लिक स्कूल (Lucknow Public School) प्रशासन को स्कूल की मान्यता समाप्त करने की चेतावनी दे दी गई। स्कूल प्रशासन द्वारा शिक्षा के अधिकार (RTE) के तहत एक भी बच्चे का फ्री सीट पर दाखिला लिया जाने की शिकायत के चलते यह कार्रवाई की गई है। इस स्कूल प्रबंधन ने ऐसा खेल किया कि आज तक इसका नाम RTE portal पर दर्ज ही नहीं हो पाया।Lucknow Public School Virat Khand

बेसिक शिक्षा विभाग की तरफ से स्कूल को नोटिस जारी कर 2 दिन में जवाब मांगा गया है। अन्यथा की स्थिति में स्कूल के खिलाफ मान्यता समाप्त किए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। यह पहली बार है जब आरटीई के प्रावधानों को लागू न करने के चलते किसी निजी स्कूल पर इतनी बड़ी कार्रवाई की जा रही है।

यह है मामला

गोमतीनगर के आनंद कुमार ने (RTE) के तहत अपने बच्चे का आवेदन करने की कोशिश की। वह अपने बेटे को लखनऊ पब्लिक स्कूल (Lucknow Public School) विराट खण्ड गोमतीनगर में प्रवेश दिलाना चाहते थे। आरटीई के तहत ऑनलाइन आवेदन के दौरान कई कोशिशे की गई। लेकिन, यह स्कूल शिक्षा विभाग के पोर्टल http://www.rte25.upsdc.gov.in पर दिखाई ही नहीं दे रहा था। इस पर आनंद कुमार की तरफ से मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक से लेकर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय तक लिखित शिकायत की गई।

विभागीय जांच में हुआ खुलासा

आनंद कुमार की शिकायत पर विभागीय स्तर पर जांच शुरू की गई. जांच में सामने आया कि यह स्कूल 2011 से संचालित है। स्कूल के पास केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड( CBSE) से 12वीं तक की कक्षाएं संचालित करने की मान्यता है। इससे पहले स्कूल की तरफ से बेसिक शिक्षा परिषद से आठवीं तक की कक्षाएं संचालित करने की मान्यता ली गई। लेकिन, विद्यालय स्तर पर शिक्षा के अधिकार के तहत गरीब और जरूरतमंद परिवार के बच्चों के लिए आरक्षित 25% सीटों पर एक भी दाखिला नहीं लिया गया है।

RTE प्रावधानों का उल्लंघन

मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक पीएन सिंह ने बताया कि RTE के प्रावधानों का उल्लंघन करने के लिए लखनऊ पब्लिक स्कूल (Lucknow Public School) विराट खंड गोमती नगर स्कूल प्रशासन को नोटिस भेजा गया है। साफ किया है कि अगर नोटिस का जवाब नहीं मिलता है तो इस स्कूल के खिलाफ मान्यता प्रत्याहरण की कार्यवाही की जाएगी।

अंधविश्वास के चलते एक साथ 900 लोगों ने गंवाई जान, जहर खाकर की आत्महत्या