खासतौर पर महिलाओं को अपनी डाइट में ज़रूर शामिल करने चाहिए ये संतुलित आहार

लाइफस्टाइल के बदलते माहौल को देकते हुए हमारे स्वास्थ्य का संतुलित आहार बिगड़ गया हैं ,जैसे कि संतुलित आहार, वर्कआउट, बुरी आदतों से दूर रहना महत्वपूर्ण हैं।

लाइफस्टाइल के बदलते माहौल को देकते हुए हमारे स्वास्थ्य का संतुलित आहार बिगड़ गया हैं ,जैसे कि संतुलित आहार, वर्कआउट, बुरी आदतों से दूर रहना महत्वपूर्ण हैं।

लेकिन फिर भी खाने की कुछ ऐसी चीज़ें हैं, जो खासतौर पर महिलाओं को अपनी डाइट में ज़रूर शामिल करनी चाहिए। खाने की ऐसी चीज़ें जो न सिर्फ आपकी सेहत को फायदा पहुंचाएंगी बल्कि कई तरह की बीमारियों से दूर करेंगी।

अपने रोज के खाने में ज़रूर शामिल करें ये ख़ास चीजें

पालक-

पालक भले ही खाने में सबसे मज़ेदार सब्ज़ी न हो, लेकिन इसमें इतने तरह के मिश्रित खनिज और विटामिन होते हैं कि इसे न खाना एक बड़ी भूल होगी। इसमें मैग्नीशियम की उच्च मात्रा होती है, जो पीएमएस के लक्षणों को कम करने का काम करते हैं। साथ ही पालक हड्डियों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए, रक्त शर्करा को नियंत्रित करने और अस्थमा अटैक के जोखिम को कम करने में भी मददगार साबित हो सकती है।

अलसी के बीज-

ओमेगा -3 फैटी एसिड की भरपूर खुराक के साथ, अलसी के बीज आपके दिल और रक्त शर्करा के स्तर के लिए बेस्ट हैं। शक्तिशाली एंटी-इंफ्लामेटरी गुणों वाले अलसी का सेवन अगर रोज़ाना किया जाए, तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद अच्छा होगा।

क्रैनबेरीज़-

क्रैनबेरीज़ स्वाद में तो अच्छी होती ही हैं, साथ ही यह आपको दिल की बीमारी, दांत के सड़ने और मूत्र पथ संक्रमणों जैसी दिक्कतों से बचाती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि यह फाइटोन्यूट्रीएंट्स, एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लामेटरी गुणों से भरी होती हैं, जो आपको कई बीमारियों से बचाने का काम करती हैं।

टमाटर-

भारत की अधिकांश घरों में टमाटर का इस्तेमाल ज़्यादातर पकवानों में किया जाता है, लेकिन फिर भी हम इस फल की शक्ति को कम आंकने की ग़लती करते हैं। टमाटर में लाइकोपीन होता है, जो एक पिगमेंटेशन है, कई अध्ययनों में पाया गया है कि टमाटर स्तन कैंसर और हृदय रोग के जाखिम को कम करता है। वे हड्डियों के में भी सुधार करते हैं और कोलेस्ट्रॉल कम करने में मदद करते हैं।

ओट्स-

आपके दिल, पाचन और रक्तचाप को नियंत्रण में रखने के अलावा, ओट्स पीएमएस से जुड़े बदलते मिजाज को रोकने में भी मदद करते हैं। डाइट्री फाइबर से भरपूर, ओट्स कोलेस्ट्रॉल को भी कम कर सकता है और आपके जठरांत्र संबंधी मार्ग को सुचारू रूप से चला सकता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *