ये हैं धरती के सबसे खतरनाक इंसान, देखते ही लोगों की कर देते हैं हत्या

पूरी दुनिया तेजी से विकास कर रही है, लेकिन दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जो आज भी सैकड़ों साल पुरानी परंपरा के अनुसार जीवन जी रहे हैं। उनका विकास रुक गया है। कई जनजातियां इस मामले में सबसे आगे हैं, जो पुराने जमाने के तौर-तरीकों से खुद को जिंदा रख रही हैं। आज हम आपको एक ऐसी जनजाति के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आप शायद ही जानते हों। दरअसल हम बात कर रहे हैं इथियोपिया की खूंखार जनजाति मुर्सी की।

इस जनजाति के लोग इंसानों को देखते ही मार देते हैं। ऐसा माना जाता है कि खूंखार मुर्सी जनजाति के लोगों के लिए किसी की हत्या करना मर्दानगी की निशानी होती है। यह जनजाति दक्षिणी इथियोपिया और सूडान सीमा की ओमान घाटी में रहती है। इन लोगों के पास ऐसे हथियार होते हैं जिनसे ये पल भर में किसी की जान ले सकते हैं। इसलिए इस जनजाति को दुनिया की सबसे खतरनाक जनजाति माना जाता है।

इतना ही नहीं इस जनजाति के रीति-रिवाज ऐसे हैं जिन्हें जानकर आप दंग रह जाएंगे। मुर्सी जनजाति दुनिया भर में अपनी अजीबोगरीब रस्मों के लिए भी जानी जाती है। शरीर संशोधन प्रक्रिया के तहत इस जनजाति की महिलाओं के निचले होंठ में लकड़ी या मिट्टी की डिस्क जैसी चीजें पहनी जाती हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि इन लोगों को बुरी नजर से बचाया जा सके। उनका मानना ​​है कि इससे महिलाओं की खूबसूरती कम होती है और वे कम आकर्षक दिखती हैं।

आपको बता दें कि मुर्सी जनजाति दुनिया में सिर्फ इथियोपिया में ही पाई जाती है। मुर्सी समुदाय की आबादी करीब 10 हजार है। इस जनजाति के लोगों का मानना ​​है कि ‘किसी और को मारे बिना जीने का कोई मतलब नहीं है और खुद ही मर जाना बेहतर है। मुर्सी जनजाति के लोगों ने सैकड़ों लोगों को मार डाला। लेकिन उन्हें किसी भी तरह से दंडित नहीं किया गया। कहा जाता है कि अगर कोई उनके क्षेत्र और समुदाय में उनकी अनुमति के बिना प्रवेश करता है तो उसे मार डाला जाता है।

इस जनजाति के हिंसक व्यवहार के कारण इथियोपिया की सरकार ने इनके साथ संपर्क पर प्रतिबंध लगा दिया था। यदि कोई विदेशी या राज्य का मुखिया सरकारी अतिथि के रूप में इथियोपिया आता है और मुर्सी जनजाति को देखने की इच्छा व्यक्त करता है, तो सरकार उसे एक सशस्त्र गार्ड के संरक्षण में ले जाती है और आदिवासी क्षेत्र का दौरा करती है ताकि उन पर हमला न हो। इसके अलावा किसी को भी मुर्सी जनजाति के दर्शन करने की अनुमति नहीं है।