Hathras Scandal: सीबीआई जांच की संस्तुति के बाद भी नहीं थमी सियासत, आखिर इतनी जल्दबाजी क्यों

रविवार को हाथरस में पंचायत हुई। दूसरी ओर लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी और सपा का प्रतिनिधिमंडल पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस पहुंचा। वहीं पीड़ित परिवार सीबीआई जांच (CBI investigation) से संतुष्ट नहीं है बल्कि उनकी सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में न्यायिक जांच की मांग है।

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Hathras Scandal latest news। हाथरस में युवती के साथ कथित गैंगरेप और मौत का प्रकरण योगी सरकार के लिए गले की हडडी बन गई है। विपक्षी दल सरकार पर हमलावर हैं।

hathras gangrape case

शनिवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी व पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने मृतका के परिजनों से मुलाकात की। उसी दरम्यान सीएम योगी ने हाथरस के पूरे प्रकरण की सीबीआई जांच (CBI investigation) की संस्तुति के आदेश कर दिए। इसके बाद भी सियासत नहीं थमी।

हाथरस में पंचायत

रविवार को हाथरस में पंचायत हुई। दूसरी ओर लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी और सपा का प्रतिनिधिमंडल पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस पहुंचा। वहीं पीड़ित परिवार सीबीआई जांच (CBI investigation) से संतुष्ट नहीं है बल्कि उनकी सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में न्यायिक जांच (judicial investigation) की मांग है।

डैमेज कंट्रोल

पूरे घटनाक्रम से साफ है कि प्रकरण में सरकारी मशीनरी खुद को साबित नहीं कर सकी। अब डैमेज कंट्रोल के लिए अफसर हाथरस के दौरे लगा रहे हैं। सरकार कार्रवाई का दावा कर रही है। यह दिखावा है या हकीकत। यह आने वाले दिनों में साफ हो सकेगा। वैसे चर्चा यह भी है कि हाथरस कांड के बाद सीएम, डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी से भी नाराज हैं।

पीड़िता के परिजन न्यायिक जांच चाहते हैं, सीबीआई जांच से किया मना—-

पीड़िता के परिजनों का कहना है कि उन्होंने भाजपा सरकार से सीबीआई जांच कराने की मांग कभी नहीं की थी। योगी इस मामले की सीबीआई जांच (CBI investigation) क्यों कराना चाहते हैं? पीड़िता के भाई ने कहा कि हमारे सवालों के जवाब नहीं मिले हैं, जितनी चाहे उतनी जांच होती रहे। हमें न्याय मिलना चाहिए।

सीएम योगी की ओर से ये आदेश ऐसे वक्त आया। जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी पीड़िता के परिवार से मिलने पहुंचे थे। इस दौरान प्रियंका गांधी ने कहा कि हम अन्याय के खिलाफ लड़ेंगे।

प्रियंका (Priyanka Gandhi) ने कहा कि यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी। उन्होंने कहा कि जब पीड़ित परिवार सीबीआई जांच कराने को तैयार नहीं है तो मुख्यमंत्री योगी आदिनाथ को इतनी जल्दबाजी क्यों है।

परिवार न्यायिक जांच के पक्ष में-प्रियंका

प्रियंका (Priyanka Gandhi) ने कहा कि परिवार न्यायिक जांच (judicial investigation)  कराने के पक्ष में हैं और योगी सीबीआई जांच कराना चाहते हैं। अब यह केस देश की सबसे बड़ी अदालत की चौखट पर पहुंच गया है। केस को लेकर एक जनहित याचिका दाखिल की गई है, जिसमें सुप्रीम कोर्ट से मामले में संज्ञान लेने की मांग की गई है।

हाथरस के डीएम पर कार्रवाई न किए जाने पर कांग्रेस ने उठाए सवाल—

हाथरस के डीएम प्रवीण कुमार पर पीड़िता के परिजनों ने कई गंभीर आरोप लगाए थे। इसके बावजूद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उन पर कोई कार्रवाई नहीं करने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Congress General Secretary Priyanka Gandhi) ने योगी सरकार पर निशाना साधा।

पीड़िता के परिवार से मुलाकात करने के बाद ‘प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) vने कहा कि जिलाधिकारी ने सारी हदें पार कर दी उसके बावजूद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने उन पर अभी तक कार्रवाई क्यों नहीं की’ ? प्रियंका ने कहा कि डीएम प्रवीण कुमार को योगी सस्पेंड करे । दूसरी ओर आईपीएस संगठन ने योगी सरकार पर हाथरस के डीएम पर कार्रवाई न किए जाने पर नाराज है।

आईपीएस संगठन (IPS association) का कहना है

आईपीएस संगठन (IPS association) का कहना है जब हाथरस के एसपी पर इस मामले में कार्रवाई की गई तो डीएम पर क्यों नहीं ? संगठन ने कहा कि हाथरस की घटना में पुलिस वालों पर एकतरफा कार्रवाई की गई है, जबकि जिम्मेदारी पूरे प्रशासन की होती है ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाथरस के एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर और कुछ पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया था । वहीं हाथरस कांड में डीएम प्रवीण कुमार शुरू से ही सवालों के घेरे में हैं। पीड़िता के परिवार ने डीएम पर धमकाने और दबाव डालने का आरोप लगाया है। पीड़ित परिवारजनों का कहना है कि मुख्यमंत्री योगी को हाथरस के डीएम पर कार्रवाई करनी चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *