पूजा करते समय अपना मुख इस दिशा में रखें अन्यथा अशुभ फल प्राप्त होंगे

नई दिल्ली: हम सभी सुबह-सुबह अपने घर में पूजा-पाठ करते हैं. ऐसे में अगर हिंदू धर्म की माने तो वास्तु उत्तर-पूर्व दिशा का महत्व बताते हुए कहता है कि “जब वास्तु को पृथ्वी पर लाया गया था, तो उसका शीर्ष उत्तर-पूर्व दिशा में था, इसीलिए यह दिशा सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।” कहा जाता है कि इस दिशा में हमें सूर्य की पवित्र किरणें मिलती हैं जो वातावरण को सकारात्मक बनाती हैं। इतना ही नहीं, ऐसा माना जाता है कि पूजा करने वाले का मुख पश्चिम की ओर होना बहुत शुभ माना जाता है।

हां और इसके लिए पूजा स्थल का दरवाजा पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। आप चाहें तो पूजा करते समय अपना मुख पूर्व दिशा में रख सकते हैं क्योंकि इससे उत्तम फल मिलता है। इसके साथ ही पूजा के दौरान दीपक की स्थिति भी सही होनी चाहिए। हां, घी का दीपक हमेशा दाहिनी ओर रखना चाहिए और तेल का दीपक हमेशा बाईं ओर रखना चाहिए। इसके अलावा बायीं ओर जल, घड़ा, घंटी, धूप जैसी चीजें रखनी चाहिए। आप सभी को यह भी बता दें कि छात्र को उत्तर दिशा की ओर मुंह करके पूजा करनी चाहिए और अन्य सभी लोगों को पूर्व दिशा की ओर मुंह करके पूजा करनी चाहिए।

वास्तव में उत्तर दिशा को ज्ञान प्राप्ति के लिए और पूर्व दिशा को धन के लिए सबसे उत्तम बताया गया है। वहीं कहा जाता है कि उत्तर दिशा की ओर मुंह करके देवी लक्ष्मी या श्री यंत्र की मूर्ति के सामने स्फटिक की माला से मंत्र का जाप करना चाहिए और ध्यान रहे कि जितना हो सके जप अच्छा हो. आपको कम से कम 108 बार जाप करना चाहिए।