जानें-वास्तु के अनुसार सावन के सोमवार को इस उपाय से घर में सुख-समृद्धि का वास होता हैं

भारतीय वास्तुशास्त्र की मूल अवधारणा ही हिंदू धर्म की मान्यताओं पर आधारित है। इसलिए वास्तु के कई उपाय हिंदू धर्म और पुराणों के आधार पर बने हैं।

भारतीय वास्तुशास्त्र की मूल अवधारणा ही हिंदू धर्म की मान्यताओं पर आधारित है। इसलिए वास्तु के कई उपाय हिंदू धर्म और पुराणों के आधार पर बने हैं।

ऐसे ही वास्तु के कुछ उपाय विशेष रूप से सावन के सोमवार के लिए बने हैं। जिनका संबंध भगवान शिव से है। वास्तु के अनुसार सावन के सोमवार के दिन इन उपायों को अपनाने से आपके घर में सुख-समृद्धि का वास होगा। आर्थिक तरक्की और लाभ के में वृद्धि होगी, तो आइए जानते हैं इन उपायों के बारे में…

रुद्राक्ष –

रुद्राक्ष की सीधा संबंध रुद्र अर्थात भगवान शिव से माना जाता है। भगवान शिव स्वयं अपने गले और हाथ में रुद्राक्ष धारण करते हैं। मान्यता है कि सावन सोमवार के दिन रुद्राक्ष को लाकर, उसे घर के मुख्य कमरे में रखना चाहिए। ऐसा करने से भाग्योदय होता है, घर की आर्थिक परेशानियां समाप्त हो जाती है और धन लाभ होता है।

गंगा जल-

गंगा जी को भगवान शिव अपनी जटाओं में स्थान देते हैं, इस कारण ही उन्हें गंगाधर भी कहा जाता है। सावन के सोमवार को गंगा जल ला कर, इसे रसोईघर में रखना चाहिए। ऐसा करने से घर के सुख और सौभाग्य में वृद्धि होती है। परिवार का वातावरण सुखद बना रहता है।

चांदी का त्रिशूल –

त्रिशूल भगवान शिव का अस्त्र है, पुराणों में इस संसार के समस्त दैहिक, दैविक और भौतिक तापों का नाशक माना गया है। सावन के सोमवार के दिन घर में चांदी का त्रिशूल ला कर उसे अपने घर मंदिर में या भगवान शिव की मूर्ति के पास रख दें। आपके घर के सारे दुख और कष्ट समाप्त हो जाएंगे।

नाग- नागिन जोड़ा –

भगवान शिव को विषधर भी कहा जाता है, नाग-नागिन को वो आभूषण की तरह अपने शरीर में स्थान देते हैं। सावन के सोमवार पर नाग-नागिन का चांदी या तांबे का बना जोड़ा लाकर घर के मेन गेट के नीचे दबा देना चाहिए। इससे नकारात्मक ऊर्जा और बुरी नजर घर में प्रवेश करने से पहले ही समाप्त हो जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *