बंगाल की सत्ता संभालते ही ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी, जानिए क्या कहा

तीसरी बार पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के तौर पर कमान संभालते ही ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है।

कोलकाता। तीसरी बार पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के तौर पर कमान संभालते ही ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। इसमें उन्होंने पश्चिम बंगाल में कोविड-19 रोकथाम के लिए निःशुल्क टीका उपलब्ध कराने के साथ-साथ आवश्यकता अनुरूप ऑक्सीजन, रेमडेसिविर और टॉसिलिजूमैब की आपूर्ति सुनिश्चित करने की मांग की है।
mamta and modi
ममता बनर्जी ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि केंद्र सरकार ने 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को टीका देने की घोषणा कर दी है लेकिन आवश्यकता अनुरूप इसकी उपलब्धता सुनिश्चित नहीं की गई है। बनर्जी ने लिखा है कि उन्होंने गत 24 अप्रैल को भी देशभर में मुफ्त टीका उपलब्ध कराने संबंधी पत्र लिखा था और एक बार फिर दोहरा रही हैं कि केंद्र सरकार को तत्काल पूरे देश में मुफ्त टीकाकरण सुनिश्चित करना चाहिए। उन्होंने यह भी लिखा है कि अगर सरकार कहे तो राज्य खरीदने के लिए तैयार है, बशर्ते इसकी उपलब्धता सुनिश्चित करनी चाहिए।
इसके साथ ही ममता ने अपनी चिट्ठी में यह भी लिखा है कि सभी को पारदर्शी और समयबद्ध तरीके से टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए उनकी सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा है कि पश्चिम बंगाल में प्रतिदिन ऑक्सीजन की खपत 220 मीट्रिक टन से बढ़कर 400 मीट्रिक टन हो गई है जो अगले एक सप्ताह में 500 मीट्रिक टन तक पहुंच सकती है। बंगाल में ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी बताते हुए उन्होंने लिखा है कि बंगाल में ऑक्सीजन उत्पादन की केंद्रीय इकाइयों से राज्य की जरूरत के मुताबिक ऑक्सीजन आपूर्ति की जानी चाहिए।

एकजुट तरीके से ही कोविड-19 का मुकाबला किया जा सकता

ममता ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि बंगाल में 70 पीएसए इकाइयां स्थापित करने की अनुमति मिली है जिन्हें बनाने में समय लगेगा। इसके अलावा नियमित तौर पर 10 हजार डोज रेमडेसिविर और 1000 सीसी टॉसिलिजूमैब की आवश्यकता है। अपने पत्र में ममता ने कहा है कि उन्हें इस बात का विश्वास है कि एकजुट तरीके से ही कोविड-19 का मुकाबला किया जा सकता है। इसलिए सभी हित धारकों को मिलजुल कर सहयोगात्मक रवैए के साथ काम करना जरूरी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *