यहां वीजा लेने के लिए मंदिर में लगती है लाखों लोगो की भीड़

नई दिल्ली: भारत में हैदराबाद के पास स्थित एक मंदिर के बारे में मान्यता है कि अगर किसी को वीजा की जरूरत पड़ती है तो सिर्फ मंदिर में जाकर उसकी समस्या का समाधान हो जाता है. और उसे वीजा मिल जाता है। जैसे, यह मंदिर चिलकुर में है, जो बालाजी का मंदिर है। लेकिन अब वीजा का मंदिर बन गया है। ऐसी मान्यता बन गई है कि यहां बालाजी के दर्शन करने से लोगों को वीजा मिल जाता है।

हैदराबाद के पास चिलकुर बालाजी का यह मंदिर अब विशेष रूप से प्रसिद्ध है। यहां हर हफ्ते करीब 1 लाख लोग दूर-दूर से पहुंचते हैं। बस इसी उम्मीद में कि उनका काम हो जाए। उन्हें विदेश में काम करने के लिए वीजा या पढ़ाई के लिए छात्र वीजा मिलना चाहिए। चिलकुर बालाजी के इस मंदिर की 11 फेरे लेना हर मुश्किल की दवा है। जिसके बाद व्यक्ति अपनी इच्छा भगवान के सामने रखता है। इसके पूरा होने के बाद उन्हें इस मंदिर की 108 परिक्रमा करनी है।

सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर में कोई दान या दक्षिणा नहीं ली जाती है। न ही नकद देने का कोई प्रावधान है। यहां भगवान को प्रसन्न करने के लिए सिर्फ नारियल ही काफी है। एक युवक को वीजा मिलने की कहानी मंदिर की वेबसाइट पर पोस्ट कर दी गई है। जिसमें उन्होंने कहा कि मुझे मंदिर जाने के बाद ही अमेरिका का वीजा मिला है। अब मैं जब भी भारत आता हूं तो तेलंगाना में तिरुपति जरूर जाता हूं।

यह मंदिर भगवान बालाजी का है, जिन्हें हिंदुओं के प्रमुख संप्रदाय वैष्णव संप्रदाय के देवता विष्णु का अंश माना जाता है। यह मंदिर करीब 500 साल पुराना है। जहां हर महीने 4 से 5 लाख लोग दर्शन करने पहुंचते हैं।