चमत्कार! अचानक बहने लगा तीस साल से बंद पड़ा महाभारत कालीन झरना, देखने को उमड़ी भीड़

प्राकृतिक संपदाओं से समृद्ध भारत में कई चमत्कार होते रहते हैं जो सुर्ख़ियों में आ जाते हैं। ऐसे ही इन दिनों एक झरना काफी सुर्ख़ियों में है।

प्राकृतिक संपदाओं से समृद्ध भारत में कई चमत्कार होते रहते हैं जो सुर्ख़ियों में आ जाते हैं। ऐसे ही इन दिनों एक झरना काफी सुर्ख़ियों में है। दरअसल यह झरना करीब तीस साल से सूखा हुआ था लेकिन बीते दिनों यह अचानक से बहने लगा। जब लोगों की नजर अचानक से बहते इस झरने पर पड़ी तो देखने के लिए वहां काफी भीड़ जुट गयी। झरने के बहने की वजह से इन दिनों उसके आसपास का इलाका काफी गुलजार हो उठा है।

waterfall

यह झरना हरियाणा जिले के फरीदाबाद में स्थित है जो अरावली पर्वतमाला से जुड़ा हुआ है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इस झरने के बारे में मान्यता है कि यह झरना महाभारत कालीन है। कहा जाता है कि जब पांडवों ने इंद्रप्रस्थ शहर बसाया था तो जर्जर और वीरान अरावली पर्वत पर अनेकों झरनों को अपने तप से प्रकट किया था। उन्हीं में से फरीदाबाद के मोहबताबाद गांव में स्थित यह झरना भी है।

यह झरना सदियों से बहता रहा है लेकिन ताबड़तोड़ खनन और कम बारिश के होने की वजह से यह करीब तीस साल पहले सूख गया था लेकिन इस बार अगस्त व सितंबर माह में जब अच्छी बारिश हुई तब यह झरना फिर से अपने पुराने स्वरूप में लौट आया और अचानक से इसमें से पानी निकलने लगा।

स्थानीय लोगों का कहना है कि यह स्थान उदयालक मुनि की तपोभूमि भी है जिस गुफा में वे तपस्या करते थे, वह गुफा आज भी है और उनकी मूर्ति भी वहां स्थापित है जिसकी लोग पूजा करते हैं। इसके अलावा आसपास कई ऐसी प्राचीन चीजें मौजूद हैं जो इस जगह को बाकी जगहों से अलग बनाती हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *