इस देश पर मिसाइलों से हुआ हमला, 200 से ज्यादा सौनिकों की मौत, जान बचाने को मजबूर हैं यहां के लोग

नागोरनो-काराबाख के अफसरों ने कहा कि उनके पक्ष के अब तक 200 से अधिक फैजियों की मौत हो चुकी है।

नई दिल्ली॥ बीते रविवार को (एपी)अलगाववादी क्षेत्र नागोरनो-काराबाख के चलते आर्मीनिया (Armenia) और अज़़रबैज़़ान के बीच युद्ध अब भी जारी है और इसकी चपेट में अज़़रबैज़़ान का दूसरा सबसे बड़ा शहर भी आ गया है। अज़़रबैज़़ान के अफसरों ने रविवार को कहा कि आर्मीनिया (Armenia) के बलों ने मुल्क के दूसरे सबसे बड़े शहर गांजा पर अटैक किया है।

WAR

अज़़रबैज़़ान के प्रेसिडेंट के सहयोगी हिकमेत हाजियेव ने एक वीडियो ट्वीट किया जिसमें क्षतिग्रस्त इमारतें देखी जा सकती हैं। उन्होंने इसे गांजा में सघन आवासीय बस्तियों पर निशाना साधकर आर्मीनिया (Armenia) द्वारा किये गये बड़े मिसाइल हमलों का परिणाम बताया। हालांकि वीडियो की सत्यता की अभी पुष्टि नहीं हो सकी है। हाजियेव ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि गांजा तथा अज़़रबैज़़ान के अन्य इलाकों में आर्मीनिया (Armenia) के इलाकों से अैटक किए गएये।

आर्मीनिया (Armenia) के रक्षा मंत्रालय के मुताबिक- उनकी सरजमीं से अज़़रबैज़़ान की दिशा में किसी तरह का हमला नहीं किया जा रहा है। लेकिन नागोरनो-काराबाख के नेता अरायिक हारुतयुन्यान ने फेसबुक पर इस बात की पुष्टि की कि उन्होंने गांजा में सैन्य ठिकानों को नेस्तानाबूद करने के लिए रॉकेट से हमलों का आदेश दिया था।

सैन्य हवाईअड्डे को नष्ट कर दिया गया

उनके प्रवक्ता वहराम पोघोस्यान ने कहा कि क्षेत्र की सेना ने गांजा में एक सैन्य हवाईअड्डे को नष्ट कर दिया है, हालांकि अज़़रबैज़़ान के अफसरों ने इस दावे को खारिज कर दिया। अज़़रबैज़़ान के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट किया कि शहर पर हमले में एक नागरिक की मौत हो गयी और चार अन्य घायल हो गये। हारुतयुन्यान ने कहा कि उन्होंने अपने बलों को गांजा पर हमले रोकने का आदेश दिया है ताकि आम जनजाति को हताहत ना हों।

खबर के मुताबिक अज़़रबैज़़ान के प्रेसिडेंट ने शनिवार को कहा कि उनकी सेनाओं ने एक शहर और कई गांवों पर कब्जा कर लिया है जबकि आर्मीनिया (Armenia)ई अफसरों ने कहा कि उनकी सेना ने विरोधी पक्ष को भारी नुकसान पहुंचाया है। इस क्षेत्र में 27 सितंबर को दोनों देशों के बीच संघर्ष शुरू हुआ था जो अज़़रबैज़़ान के तहत आता है लेकिन इस पर स्थानीय आर्मीनिई (Armenia) बलों का नियंत्रण है। यह 1994 में खत्म हुए युद्ध के बाद इस इलाके में सबसे गम्भीर संघर्ष है। अज़़रबैज़़ान के रक्षा मंत्री जाकिर हासानोव ने रविवार को एक बयान में कहा, ‘‘आर्मीनिया (Armenia) से अज़़रबैज़़ान के क्षेत्रों पर हमले करना पूरी तरह उकसावे वाली कार्रवाई है।’’

हो चुकी है 200 से अधिक फैजियों की मौत

आपको बता दें कि इससे पहले आर्मीनिया (Armenia) के रक्षा मंत्रालय की प्रवक्ता सूसन स्टेपेनियन ने कहा कि शनिवार को “समूचे अग्रिम क्षेत्र में भारी लड़ाई जारी रही” और आर्मीनिया (Armenia)ई सेना ने तीन विमानों को मार गिराया। नागोरनो-काराबाख के अफसरों ने कहा कि उनके पक्ष के अब तक 200 से अधिक फैजियों की मौत हो चुकी है। अज़़रबैज़़ान के अपसरों ने अपनी ओर के हताहत सैनिकों का विवरण नहीं दिया है लेकिन कहा कि उनके यहां 22 आम लोगों की जान जा चुकी है जबकि 74 अन्य घायल हुए हैं।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *