महात्मा गांधीजी की 151 वीं जयंती के अवसर पर, इस मशहूर ट्रेन को मिले नए कोच

पहले फ्रंटियर मेल के नाम से मशहूर गोल्डन टेम्पल मेल की शुरुआत के 92 गौरवशाली वर्षों का अवसर मनाने के लिए, पश्चिम रेलवे ने ट्रेन नम्बर 12903/ 12904 मुंबई सेंट्रल - अमृतसर गोल्डन टेम्पल मेल के सभी पारम्परिक रेकों को महात्मा गांधीजी की 151 वीं जयंती के विशेष अवसर पर एल एच बी रेकों में परिवर्तित कर दिया है

मुंबई, 03 अक्टूबर, यूपी किरण।  पहले फ्रंटियर मेल के नाम से मशहूर गोल्डन टेम्पल मेल की शुरुआत के 92 गौरवशाली वर्षों का अवसर मनाने के लिए, पश्चिम रेलवे ने ट्रेन नम्बर 12903/ 12904 मुंबई सेंट्रल – अमृतसर गोल्डन टेम्पल मेल के सभी पारम्परिक रेकों को महात्मा गांधीजी की 151 वीं जयंती के विशेष अवसर पर एल एच बी रेकों में परिवर्तित कर दिया है।

तत्कालीन ब्रिटिशयुगीन भारत की इस प्रतिष्ठित ट्रेन के लिए यह एक सम्मानजनक उपलब्धि है, जिसका विशेष महत्व है। उल्लेखनीय है कि इस ऐतिहासिक रेलगाड़ी का नाम दांडी मार्च के अवसर पर महात्मा गांधीजी की यादगार यात्रा सहित कई ऐतिहासिक  घटनाओं के लिए जाना जाता है। इस ट्रेन के चौथे एल एच बी रेक को 3 अक्टूबर, 2020 को उसके सफर पर रवाना किया गया।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी सुमित ठाकुर के अनुसार, वर्तमान में स्पेशल ट्रेन नम्बर 02903 /02904 मुंबई सेंट्रल – अमृतसर स्पेशल ट्रेन के रूप में चल रही ट्रेन नम्बर 12903/ 12904 मुंबई सेंट्रल अमृतसर गोल्डन टेम्पल मेल के सभी चार पारम्परिक रेक अब 3 अक्टूबर, 2020 से एलएचबी रेक के साथ चल रहे हैं। इस ट्रेन के संयोजन में प्रथम श्रेणी, एसी 2-टियर, एसी 3-टियर, स्लीपर, द्वितीय श्रेणी के कोच और एक पेंट्री कार सहित कुल 22 डिब्बे शामिल हैं। एल एच बी रेकों में बदलाव न केवल यात्रियों को आराम प्रदान करेगा, बल्कि उनकी संरक्षा में वृद्धि भी सुनिश्चित करेगा

ठाकुर ने बताया कि मौजूदा लॉकडाउन अवधि के दौरान, पश्चिम रेलवे के मुंबई सेंट्रल डिवीजन को एल एच बी में रूपांतरण के लिए उत्पादन इकाई इंटीग्रल कोच फैक्ट्री और रेल कोच फैक्ट्री से 102 कोच प्राप्त हुए। कोविड-19 के कारण कई बाधाओं का सामना करने के बावजूद आवश्यक सावधानी बरतते हुए सभी कोचों को न्यूनतम समय में परिचालन में शामिल कर लिया गया।

सभी पारम्परिक कोचों की तुलना में एलएचबी कोचों की खासियत यह है कि एलएचबी कोच वजन में हल्के होते हैं, इनमें उच्च वहन क्षमता के साथ-साथ उच्च गति की क्षमता भी होती है। एलएचबी कोचों में एंटी-क्लाइम्बिंग विशेषताएं भी होती हैं, जिसका अर्थ है कि टक्कर की स्थिति में कोच एक-दूसरे के ऊपर नहीं चढ़ते हैं। इसके अलावा, इन डिब्बों में मॉड्यूलर अंदरूनी, बेहतर राइड इंडेक्स और कम रखरखाव की आवश्यकता होती है। यह अपग्रेडेशन लम्बी दूरी की यात्रा के दौरान यात्रा को अधिक सुरक्षित और आरामदायक बना देगा। भारतीय रेलवे द्वारा यात्रियों की मांगों और अपेक्षाओं को पूरा करने के प्रयास में लगातार सुधार को आगे बढ़ाता है और इस कठिनतम समय में पश्चिम रेलवे द्वारा हासिल एक और मील का पत्थर है।

गोल्डन टेंपल मेल के गौरवपूर्ण इतिहास की जानकारी देते हुए ठाकुर ने बताया कि इस अनूठी ट्रेन ने हाल ही में 1 सितम्बर, 2020 को अपने परिचालन की शुरुआत के 92 वर्ष पूरे किये। यूरोप से स्टीमर से आने वाले पर्यटक उस जमाने में बॉम्बे के बैलार्ड पियर से इस ट्रेन में सफ़र करके सीधे तत्कालीन भारत की उत्तरी-पश्चिमी सीमा पर स्थित पेशावर शहर में पहुंचते थे। 1947 में भारत के विभाजन के बाद, इस ट्रेन का टर्मिनल स्टेशन बदलकर अमृतसर कर दिया गया।

 

फ्रंटियर मेल को औपचारिक रूप से सितम्बर, 1996 में गोल्डन टेम्पल मेल का नाम दिया गया था। फ्रंटियर मेल को फिल्म अभिनेता स्व. पृथ्वीराज कपूर की रोमांटिक आत्मकथाओं में भी जगह मिली है, जिनके बारे में माना जाता है कि उन्होंने 1928 में फिल्मों में किस्मत आजमाने के लिए फ्रंटियर मेल द्वारा अपने गृहनगर पेशावर से बॉम्बे की यात्रा की थी। फ्रंटियर मेल भारतीय प्रायद्वीप में पहली वातानुकूलित ट्रेन थी, जब इसे 1934 में एक वातानुकूलित डिब्बा मिला था। गोल्डन टेम्पल मेल अब एलएचबी कोच से चलने के साथ ही इसके शानदार इतिहास के दस्तावेज़ों में एक और सुनहरा अध्याय जुड़ गया है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *