जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ प्रधानमंत्री की महत्वपूर्ण मीटिंग आज, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

जम्मू-कश्मीर और नियंत्रण रेखा पर 48 घंटे का अलर्ट जारी किया गया है

नई दिल्ली॥ धारा 370 हटाए जाने के बाद केंद्र सरकार और कश्मीरी नेताओं के बीच पैदा हुए राजनीतिक गतिरोध को दूर करते हुए पीएम नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को कश्मीरी नेताओं की महत्वपूर्ण मीटिंग बुलाई है। इसमें कई पार्टियों के नेता शामिल हो रहे हैं। ज्यादातर नेता मीटिंग में शामिल होने के लिए एक दिन पहले ही दिल्ली पहुंच चुके हैं।

PM Modi's meeting on J&K

उधर, जम्मू-कश्मीर और नियंत्रण रेखा पर 48 घंटे का अलर्ट जारी किया गया है। इस दौरान कश्मीर में हाईस्पीड इंटरनेट सेवाओं के बंद रखे जाने का भी निर्णय लिया जा सकता है।

दोपहर तीन बजे पीएम आवास पर आयोजित होने जा रही मीटिंग पर सभी की निगाहें लगी हुई हैं। इसके लिए जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों व पूर्व उप मुख्यमंत्रियों सहित आठ दलों के 14 नेताओं को मीटिंग का न्योता भेजा गया। इनमें गुपकार गठबंधन के नेता भी शामिल हैं।

गुलाम नबी आजाद, फारुख अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला, कविंद्र गुप्ता, निर्मल सिंह, रविंद्र रैना, ताराचंद, मुजफ्फर बेग, सज्जाद लोन, भीम सिंह, एमवाई तारागामी, अल्ताफ बुखारी जैसे नेता मीटिंग का हिस्सा होंगे। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद एक लंबे अंतराल में इनमें से कई नेताओं की पीएम नरेन्द्र मोदी से मुलाकात होगी। कई नेता इस दौरान नजरबंद रहे।

मोदी सरकार की तरफ से मीटिंग को लेकर की गयी पहल को राज्य के मौजूदा हालात के बाद काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इसके लिए कोई एजेंडा नहीं रखा गया है लेकिन माना जा रहा है कि इसमें जम्मू-कश्मीर के विकास सहित राज्य के परिसीमन और अन्य मुद्दों पर केंद्र सरकार स्थानीय प्रतिनिधियों के साथ चर्चा कर सकती है।

इसके साथ ही जम्मू-कश्मीर में जल्द से जल्द विधानसभा चुनाव कराने के लिए इन नेताओं से विचार-विमर्श भी हो सकता है। हालांकि महबूबा मुफ्ती समेत कई दूसरे कश्मीरी नेता राज्य में धारा 370 की दोबारा बहाली सहित दूसरी मांगें मीटिंग में रख सकते हैं।

इससे पहले केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर के हालात को लेकर उप राज्यपाल मनोज सिन्हा और शीर्ष अधिकारियों के साथ मीटिंग के लिए तैयारी कर नेताओं को मीटिंग का निमंत्रण भेजा। थोड़ी हिचकिचाहट के साथ सभी दलों के नेताओं ने मीटिंग के लिए केंद्र सरकार के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया। इस महत्वपूर्ण मीटिंग को लेकर देश के साथ-साथ सीमा पार भी काफी चर्चाएं हो रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *