Swapna Shastra: इन संकेतों से जानें सपना सच होगा या नहीं

सपने हर किसी को आते हैं। कई बार ये भविष्य में होने वाली घटनाओं की तरफ भी इशारा करते हैं। स्वप्न शास्त्र में हर सपने का अर्थ बताया गया है।

सपने हर किसी को आते हैं। कई बार ये भविष्य में होने वाली घटनाओं की तरफ भी इशारा करते हैं। स्वप्न शास्त्र में हर सपने का अर्थ बताया गया है। कहते हैं कुछ सपने ऐसे होते हैं जिनका आना जिंदगी में सुख-संपत्ति, वैभव-ऐश्वर्य के आने का साफ इशारा होता है। वहीं कुछ सपने अशुभ घटनाओं की तरफ इशारा करते हैं। स्वप्न शास्त्र में सुबह के समय दिखने वाले सपनों को लेकर बताया गया है के ये सपने अक्सर सच होते हैं। स्वप्न शास्त्र में अलग-अलग प्रहर में देखे गए सपनों को लेकर जानकारी दी गई है।

Swapna Shastra

सपना रात के किसी भी प्रहर में देखे गए हों इनमें से कुछ सच होते हैं तो कुछ नहीं हम इसे। कहने का मतलब ये हैं कि कुछ सपने फल देने वाले होते है तो कुछ का कोई परिणाम नहीं होता। स्वप्न शास्त्र में बताया गया है कि सपने देखने का समय बताता है कि वह सच होगा या नहीं। कहते है कि रात के 10 बजे से 12 बजे के बीच देखे गए सपने कोई फल मिलता।

आमतौर पर ये सपने दिन में हुई घटनाओं से जुड़ा होता है। रात के 12 से 3 बजे के बीच देखे गए अधिकतर सपने सच होते हैं लेकिन उन्हें सच होने में लगभग एक साल लग जाता है। वहीं ब्रह्म मुहूर्त यानि कि सुबह 3 बजे से 5 बजे के बीच देखे गए सपने जरूर सच होते हैं। ये सपने 1 से 6 महीनों के बीच फल देते हैं। इधर

क्यों होते हैं सुबह के सपने सच

कहते हैं कि सुबह का समय वो समय होता है जब व्यक्ति अपनी आत्मा के बेहद निकट होता है। साथ ही इस समय सभी दैवीय शक्तियां सक्रिय रहती हैं और उसका असर पृथ्वी की हर जीव चीज पर पड़ता है। यही वजह है कि ब्रह्म मुहूर्त में लोगों को उठ जाने और और भगवान की आराधना करने के लिए कहा जाता है।