UP Election Result 2022 : अगर योगी फिर से सीएम बनते हैं तो टूटेंगे कई मिथक

देश के पांच राज्यों में चुनाव खत्म हो गए हैं। अब सबकी निगाहें 10 मार्च पर टिकी हैं। कल यानी 10 मार्च को देश के सबसे...

लखनऊ। देश के पांच राज्यों में चुनाव खत्म हो गए हैं। अब सबकी निगाहें 10 मार्च पर टिकी हैं। कल यानी 10 मार्च को देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के परिणाम आएंगे। ये नतीजे साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को भी प्रभावित करेंगे, क्योंकि कहते हैं कि दिल्ली का रास्ता यूपी की राजनीति से होकर गुजरता है।

cm yogi

ऐसे में सबके जहन में ये सवाल है कि आखिर उत्तर प्रदेश की गद्दी किसके हाथ लगेगी। तमाम एक्ज़िट पोल्स का रुझान है कि सत्ता की चाबी एक बार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास ही लगेगी। अगर ऐसा होता है तो प्रदेश में कई सालों से चले आ रहे कई मिथक टूटने तय हैं।

  • योगी आदित्यनाथ पांच साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद अपनी पार्टी की सत्ता में वापसी कराएंगे। ऐसा करने वाले वह पहले सीएम होंगे।
  • वह भाजपा के पहले मुख्यमंत्री होंगे जो लगातार दूसरी बार यूपी की गद्दी संभालेंगे।
  • योगी दोबारा से सीएम बनते हैं तो साल 2007 के बाद पहले ऐसे नेता होंगे, जिन्होंने बतौर सीएम उम्मीदवार विधानसभा का चुनाव लड़ा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में साल 1951 से लेकर साल 2007 तक लगातार अस्थिरता का दौर चलता रहा। साल 2007 के विधानसभा चुनाव में बहुजन समाज पार्टी ( बसपा) ने पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाई और पूरे पांच साल तक मायावती मुख्यमंत्री रही परन्तु साल 2012 में वे सत्ता में वापसी नहीं कर पाई। 2012 में सपा की वापसी हुई और अखिलेश यादव सीएम बने।

मायावती के बाद अखिलेश भी पूरे पांच साला तक सीएम रहे हैं। इसके बाद साल 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 325 सीटों जीतकर इतिहास रच दिया और योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने। योगी ने भी पूरी पांच साल तक प्रदेश की सरकार चलाई। अब देखना यह है कि वे दोबारा मुख्यमंत्री बनकर इतिहास सर्चा पाएंगे।

इसी कड़ी में ये मिथक है कि जो भी मुख्यमंत्री नोएडा आता है, वह दोबारा से सत्ता में वापसी नहीं कर पाता लेकिन योगी अपने कार्यकाल के दौरान कई बाद नोएडा आये। उल्लेखनीय है कि साल 1988 के बाद से जिस भी मुख्यमंत्री ने अपने कार्यकाल के दौरान नोएडा का दौरा किया, वह अगली बार सत्ता में वापसी नहीं कर पाया। बताया जाता है कि जब राजनाथ सिंह मुख्यमंत्री बने थे तब उन्होंने नोएडा बने एक फ्लाईओवर का उद्घाटन दिल्ली में ही बैठकर किया था।