UP में महिला पुलिस अधिकारियों ने खाकी को किया दागदार, सेना के जवान से रिश्वत मांगी

मेरठ, 9 मई | जो लोग  सोचते है कि महिलाएं पुरुषों से कम भ्रष्ट हैं, उन्हें ये पढ़ना चाहिए। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में एक महिला पुलिस थाने के थाना प्रभारी (एसएचओ) और एक उपनिरीक्षक (एसआई) को एक मामले में एक आरोपी का नाम हटाने के लिए एक लाख रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है।

UP POLICE

अधिकारियों ने बताया कि दोनों के खिलाफ यहां सिविल लाइंस थाने में भ्रष्टाचार का मामला दर्ज किया गया है और उनके खिलाफ विभागीय जांच के भी आदेश दिए गए हैं. एसपी (सिटी) विनीत भटनागर ने कहा कि जांच अधिकारी सब-इंस्पेक्टर रितु काजला और महिला थाने की एसएचओ मोनिका जिंदल ने सेना के एक शख्स से एक लाख रुपये की मांग की थी, ताकि उसका नाम आरोपियों की सूची से हटाया जा सके।

उन्होंने कहा कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) प्रभाकर चौधरी ने एसपी (ग्रामीण) से मामले की जांच करने को कहा था, जिसमें जिंदल और रितु काजला को दोषी पाया गया था। जांच रिपोर्ट के आधार पर इनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। भटनागर ने बताया कि एसएसपी के आदेश पर दोनों महिला पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है. मामला तब सामने आया जब सेना के जवान ने दोनों का वीडियो बनाकर एसएसपी से शिकायत की।