Yoga for Headache in Hindi: सिर दर्द से हैं परेशान तो अपनाए एक्सपर्ट्स द्वारा प्रमाणित ये योग और टिप्स

दोस्तो काम का दबाव, तनाव, पढ़ाई का दबाव, अत्यधिक गरम मौसम और लंबे समय तक स्क्रीन के सामने बैठने से सिर दर्द की समस्या हो सकती है।कभी कभी ये इतना गंभीर होता है कि लोगों का बैठना, चलना और लेटना तक मुश्किल हो जाता है।एक अनुमान के मुताबिक 2020 में 50 से 75 प्रतिशत वयस्क सिरदर्द की समस्या का सामना कर रहे थे। अक्सर सिरदर्द हल्के और बस कुछ समय के लिए होते हैं, लेकिन कुछ सिर दर्द बहुत ज्यादा दर्दनाक और घातक होते हैं।इस आर्टिकल में हम सिर दर्द कितने प्रकार के होते हैं (Types of headache in hindi), सिर दर्द क्यों होता है (Headache causes in hindi), सिर दर्द के लिए योगासन (Yoga for headache in hindi) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

 सिर दर्द

Yoga for back pain in Hindi: पीठ के दर्द से हैं परेशान तो अपनाइए ये पीठ दर्द के लिए व्यायाम

सिर दर्द कितने प्रकार के होते हैं

मेडिकल की डिस्नरी में करीब 150 प्रकार के सिर दर्द वर्णित है, हम कुछ सामान्य सिर दर्द की बात करेंगे जिससे ज्यादातर लोग पीड़ित हैं।

टेंशन टाइप हेडक (Tension-type headache)

यह सिर दर्द का सबसे सामान्य प्रकार है, दुनियाभर की कुल जनसंख्या का करीब ¾ भाग इससे पीड़ित है।इसको muscle contraction headache के नाम से भी जानते हैं। यह सिर दर्द गर्दन, जबड़ा और चेहरे को प्रभावित करता है।एक 2020 के अध्ययन के अनुसार टेंशन टाइप हेडक का तनाव (Stress) से भी संबंध है।

इस प्रकार के सिर दर्द से पीड़ित रोगी निम्न प्रकार की चीज़े महसूस करता है।

  • रोगी को अपने सिर के चारो ओर ऐसा लगेगा जैसे कि सिर में कुछ चीज टाइट बंधी हुई है।
  • सिर के दोनो तरफ हल्का हल्का दर्द महसूस होगा।
  • दर्द गर्दन, जबड़ा और चेहरा में बढ़ता जाता है।

माइग्रेन (Migraine)

माइग्रेन दुनिया में तीसरी सबसे आम और सातवीं सबसे अधिक अक्षम करने वाली बीमारी है।2021 के सर्वेक्षण के आधार पर यह यू.एस. (United States) आबादी के लगभग 16% को प्रभावित करता है। माइग्रेन में सिर एक तरफ ऐसे महसूस होता है जैसे दिल के धड़कने में दिल में महसूस होता है।

इसमें रोगी को प्रकाश और ध्वनि से सिर दर्द बढ़ सकता है।

क्लस्टर हेडक (Cluster headache)

क्लस्टर सिरदर्द में अक्सर चेहरे के एक तरफ आंख के आसपास या पीछे थोड़े समय के लिए लेकिन गंभीर दर्द होता है। यह दर्द चेहरे के अन्य हिस्सों में भी फैल सकता है।

इस प्रकार के सिर दर्द में रोगी को निम्न लक्षण महसूस होते हैं।

  • आँखों में लालपन होना
  • आखों से पानी आना
  • झुकी हुई या सूजी हुई पलकें
  • नाक बंद हो जाना या नाक का बहना
  • एक आँख में छोटी पुतली का छोटा हो जाना
  • माथे पर पसीना आना

थंडरक्लैप हेडक (Thunderclap headache)

ये अचानक से होता है और देखते ही देखते गंभीर रूप धारण कर लेता है।यह सबसे घातक सिरदर्द है।इस सिर दर्द में दर्द लगभग 30 सेकंड से एक मिनट में अधिकतम तीव्रता तक पहुंच जाते हैं और कुछ घंटों के भीतर धीरे-धीरे फीके पड़ जाते हैं।

इस प्रकार के सिर दर्द में रोगी को निम्न घातक रोग हो सकते हैं।

  • aneurysm
  • रिवर्सिबल सेरेब्रल वैसोकंस्ट्रिक्शन सिंड्रोम (Reversible cerebral vasoconstriction syndrome)
  • मेनिनजायटिस (Meningitis)
  • पिट्यूटरी एपोप्लेक्सी (Pituitary apoplexy)
  • मस्तिष्क में रक्तस्राव (रक्तस्राव) होना (Brain hemorrhage)
  • मस्तिष्क में रक्त का थक्का जम जाना

सिर दर्द के कारण

सिरदर्द का दर्द मस्तिष्क (Brain), रक्त वाहिकाओं (Blood vessels) और आसपास की नसों के बीच परस्पर क्रिया करने वाले संकेतों के परिणामस्वरूप होता है। ये नसें मस्तिष्क को दर्द के संकेत भेजती हैं।सिरदर्द के दौरान, एक अज्ञात प्रक्रिया विशिष्ट तंत्रिकाओं को सक्रिय करती है जो मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं को प्रभावित करते हैं।

सिर दर्द के लिए योग

प्रत्येक दिन कुछ मिनटों के लिए कुछ सरल योग मुद्राओं का अभ्यास करने से आपको सिर दर्द से आराम मिलेगा।विशेषज्ञ द्वारा सुझाए गए ये निम्न आसन कई प्रकार के सिरदर्दों में मदद कर सकते हैं।

बालासन (Balasana)

यह व्यायाम चिंता और तनाव से ग्रसित लोगों के लिए बहुत अच्छा है क्योंकि यह शरीर को शांत करता है और शरीर में दर्द को कम करने में भी मदद करता है।यह सिर की ओर रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।

आइए देखते हैं कि बालासन कैसे करते हैं।

  • अपने घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • अपनी जांघों को स्ट्रेच करें, और अपने निचले हिस्से को अपने पैरों पर टिकाएं।
  • अब अपने शरीर को तब तक नीचे की ओर ले जाएं जब तक आपका सिर जमीन को न छू ले।
  • अपनी बाहों को अपने पैरों की ओर फैलाएं और इस स्थिति में कुछ सेकंड के लिए रुकें।
  • अब धीरे-धीरे अपनी प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।

मर्जारी आसन

यह मुद्रा पीठ और गर्दन को अच्छी तरह से स्ट्रेच करती है जिससे तनाव से राहत मिलती है।यह रक्त परिसंचरण में सुधार करने में मदद करने के लिए भी एक अच्छी मुद्रा है।

आइए देखते हैं कि मर्जारी आसन कैसे करते हैं।

  • अपने घुटनों के बल खड़े हो जाए और अपनी हथेलियों को फर्श पर रखें।
  • अपनी प्रारंभिक स्थिति में अपने पैरों को अपनी तरफ फैलाएं और सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ सीधी हो और फर्श के समानांतर स्थिति में हो।
  • अब अपने आप को ऊपर की ओर खींचते हुए और अपनी पीठ को झुकाएं।
  • जितना हो सके उतना ऊपर खींचो, और अपने सिर को थोड़ा नीचे करें
  • ऐसी स्थिति में थोड़ी देर के लिए रुके रहें।
  • अब धीरे-धीरे अपनी प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।

पश्चिमोत्तासन (Paschimottanasana)

यह उन लोगों के लिए एक परफेक्ट व्यायाम है जो तनाव और चिंता से उत्पन्न सिरदर्द का अनुभव करते हैं।

आइए देखते हैं कि पश्चिमोत्तासन कैसे करते हैं।

  • अपने पैरों को सीधा रखते हुए, अपनी व्यायाम चटाई पर आराम से बैठें।
  • अब सांस अंदर लें और हाथों को ऊपर उठाएं और शरीर को धीरे-धीरे नीचे करें जब तक कि आपका सिर आपके घुटनों को छू न जाए।
  • कोशिश करें कि दोनों हाथों को अपने पैरो या तलवों के चारों ओर एक साथ पकड़ें।
  • ऐसी स्थिति में थोड़ी देर के लिए रुके रहें।

अब धीरे-धीरे अपनी प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।

Harmful Drinks in Hindi: अगर आप भी ये ड्रिंक पीते हैं तो हो जाए सावधान, हो सकता है जान का खतरा

सीएम पोर्टल पर शिकायतों का ऐसा भी निपटारा: सड़क पर अतिक्रमण के लगाए लाल निशान, पर जांच रिपोर्ट में बताया

30 साल से एक ही जिले में तैनात इस लेखाकार के पास है करोड़ों की अवैध संपत्ति, लग चुके हैं गबन तक के आरोप

अजब UP गजब UPSIDC: एक साथ दो-दो डिग्री कोर्स करने वालों और प्लाटों के फर्जी आवंटन करने वालों

शासन के फर्जी आदेश पर नौकरी हासिल करने वाले भ्रष्ट ऑफिसर मयंक श्रीवास्तव को CEO ग्रेटर नोएडा ने क्यों दिया इंडस्ट्री का प्रभार, पढ़िए खबर